सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वो अपनी जिंदगी की पाठशाला की खुद टीचर है, मिलिए नमिता शुक्‍ला से



वो अपनी जिंदगी की पाठशाला की खुद टीचर है, और आज चूंकि दूसरों की जिंदगी में शिक्षा का प्रकाश डालने वाली इस लड़की का जन्‍म दिन है तो सोचा आप से भी परिचय करा दिया जाए हालांकि काफी लोग उसे जानते हैं। मैं बात कर रहा हूं नमिता शुक्‍ला की सबसे पहले तो जन्‍म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं।
दरअसल नमिता उन लड़कियों में से एक है जो जिंदगी जीने के लिए अपनी टर्म एंड कंडीशन पर चलना पसंद करती है और सबसे खास बात अपने सपनों को पंख लगाकर उड़ान देना भी उसे बहुत खूब पता है। माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि से पीजी
(M.J)  करने के बाद मीडिया के लिए काम करने के साथ ही पीचडी करने की तमन्‍ना रखने वाली नमिता का एक दिन फोन आया कि सर  Gandhi Fellowship के लिए चयन हो गया है और मैं इसे ज्‍वाइन करने जा रही हूं। मैनें बहुत लोगों को देखा है जो मीडिया में आने के बाद उससे दूर जाना पसंद नहीं करते लेकिन नमिता उन लोगों से कुछ अलग मालूम पड़ी और गांधी फेलोशिप के माध्‍यम से देश के दूर दराज के इलाकों में शिक्षा की अलख जगाने निकल पड़ी। 
पिछले 5 सालों से नमिता से मेरी कोई मुलाकात नहीं हुई लेकिन डिजिटल संसार में फेसबुक पर उसके कामों की सूचना मिलती रहती है तो कभी कभार फोन करके उसने खुद शिक्षा के वर्तमान हालात और उसमें क्‍या नया किया जा सकता है उसकी चर्चा करती रहती है।
 फिलहाल वर्तमान में राजस्‍थान के सिरोही जिले में सेंटर फॉर माइक्रोफाइनेंस के लिए काम कर रही हैं। इससे पूर्व कावल्‍या फाउंडेशन ( Kaivalya Education Foundation) के साथ जुड़कर शिक्षा के क्षेत्र में काफी काम किया है।
एक बार मैनें पूछा था कि मीडिया को अलविदा कहने का दु:ख नहीं होता तो तपाक से बोल पड़ी थी अच्‍छा हुआ मीडिया से दूरी बना ली शिक्षा के क्षेत्र में कुछ करती हूं, दूर दराज के बच्‍चों से मिलती हूं तो लगता है कि सचमुच कुछ कर रही हूं। दरअसल नमिता शुक्‍ला जैसी मेंटर आज के दौर में हर स्‍कूल में होनी चाहिए क्‍योंकि ऐसे लोग बदलते भारत की असली पहचान । गुड जॉब नमिता ऐसे ही चलती रहो सपने वहीं बड़े होते हैं जिसमें आपकी सफलता में भी दूसरों की जिंदगी संवरती हो और आप जो काम कर रहीं हो उसका रास्‍ता ऐसी ही मंजिल की तरफ जाता है।

जन्‍म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं ….आने वाला साल और भी सफलताओं से भरा और खुशहाली भरा हो....

GOOD JOB : यह मत सोचों की कैसे होगा, ये सोचों की जिंदगी में करना क्‍या चाहते हो, और उस पर अमल करो उसके बाद जिंदगी आपको वह सारे रास्‍ते बताती है, थोड़े मुश्किल भरें, थोड़ी आसानी वालें ….लेकिन अपने सपनों के लिए कुछ तो अलग करना ही पड़ता है, दो कदम तो खुद से चलना ही पड़ता है !


 =Rajesh Yadav

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।