सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सच से पर्दा उठाती हैं ‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’







डाक्युमेंट्री फिल्म : ‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’

निर्देशक : नकूल सिंह
संपादन : नीतू सिंह
साउंड :  विनीत डिसूजा
कैमरा : देवल शर्मा

रेटिंग : * * * *

डाक्युमेंट्री फिल्म ‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’  ऐसी जाट लड़कियों की कहानी को बयां करती है जिन्होंने ऑनर किलिंग, खाफ पंचायतों के तुगलकी फरमान, अन्या और राइट टू लव के लिए आवाज बुलंद की है। यह फिल्म हरियाणा की पांच जाट लड़कियों के संघर्ष की उस दास्तान को बयां करती है जहां सब कायदे कानून,सारे नियम, सभी रीति रिवाज और परंपराएं एक औरत के ऊपर लागू होती है। ‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’  एक तरफ बदलाव की गवाह बन रही है तो दूसरी तरफ खाफ पंचायत और समाज का एक तबका इज्जत के नाम पर ऑनर किलिंग से भी नहीं डरता।  डाक्युमेंट्री फिल्म को नकूल सिंह  ने  निर्देशित किया है और नीतू सिंह ने संपादित किया है। फिल्म बेहद शानदार बन पड़ी है और हरियाणा के बदलते समाज और परंपरागत समाज के टकराव की कहानी को बयां करती है।

एक तरफ समाज की ये लाडली बेटियां जाति बंधन तोड़ प्यार की डगर पर चलकर अपनी जिंदगी की डोर अपने पसंदीदा व्यक्ति के साथ जोड़ना चाहती हैं तो दूसरी तरफ खाफ पंचायत में जय सिंह अहलावत जैसे लोग है जो इनको असभ्य मानते हैं और जिनकी नजर में ये उनकी परंपरा के लिए एक खतरे की तरह है।

यह फिल्म सीमा और उसकी मां की उस लड़ाई की कहानी कहती है जिसमें उसके भाई मनोज को समान गोत्र की बबली के साथ विवाह कर लेने के चलते ऑनर किलिंग का शिकार होना पड़ा था। आज सीमा और उसकी मां हत्यारों के खिलाफ कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ रही है। यह फिल्म दिल्ली विवि की गीतिका की कहानी बयां करता है जो ऑनर किलिंग पर स्ट्रीट प्ले करने से नहीं हिचकती। लेकिन ऐसे समय में उसे सुनना पड़ता है कि  तुम जाट हो और तुम प्ले बना रही हो। कुछ लोग कहते हैं तुम अपनी जड़े काट रही हो और कुछ नहीं कर रही हो।  अंजलि तो अपनी एम.फिल डिग्री ऑनर किलिंग पर रही है । ऐसी ही कुछ कहानी जाट गर्ल मोनिका की है जिसने गौरव सैनी से विवाह किया। गौरव मोनिका के बारे में बताते है कि मोनिका ने मुझे हमेशा कहा कि मैं एक लड़की को गोद लेना चाहती हूं और फिर मैं लोगों को दिखाना चाहती हूं कि लड़की को कैसे पाला जाता है।

‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’  कोई सामान्य डाक्युमेंट्री फिल्म नहीं है, ऑनर किलिंग जैसे विषय पर इसे बहुत संजीदा तरीके से बनाया गया है। फिल्म एक सवाल करती है आखिर अपने बच्चों को मारकर कोई कैसे इज्जत बचा सकता है? यह फिल्म हरियाणा में बदलाव की बयार में चल पड़ी युवा पीढ़ी और परंपरागत खाफ समाज को मानने वालों के बीच बढ़ती दूरियों की कहानी भी बयां करता है। फिल्म कहती है बेटियां आकाश छूना चाहती है, पंछी बन आकाश में अपने जहां को खूबसूरत बनाना चाहती हैं और अपनी जिंदगी को अपनी पंसद से जीना चाहती है। फिल्म कहती है खाफ पंचायत कूपमंडूक बना बैठा है और इस युवा पीढ़ी से अंदर से डरा हुआ है। प्रेम के पंछियों को मारकर पेड़ पर टांगने वाले इस खाफ पंचायत के तुगलकी समाज पर सवालिया निशान लगाती है इज्जतनगर की असभ्य बेटियां। इस  डाक्युमेंट्री फिल्म को नीतू सिंह ने बेहद शानदार अंदाज में संपादित किया है । इस डाक्युमेंट्री फिल्म को भारत के हर गांव में दिखाया जाना चाहिए और नकुल, देवल, विनीत और नीतू सिंह की पूरी टीम को इस डाक्युमेंट्री फिल्म के लिए बधाई देनी चाहिए। इस फिल्म को सिनेमाघरों में प्रदर्शित किया जाना चाहिए जिससे कि इसे अधिक से अधिक लोग देख सके। निश्चित तौर पर यह फिल्म फिल्ममहोत्सव में बहुत पसंद की जाएगी और इसे कई अवार्ड मिलना भी तय है। सच से पर्दा उठाती हैं ‘इज्जत नगर की असभ्य बेटियां’  और कहती हैं हमें हमारा आकाश छूने दो ।                                        

राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।