सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

खेलें हम जी जान से : इस जज्बे को आप जी जान से चाहेंगे



रेटिंग : ४


निर्देशक : आशुतोष गोवारीकर

कलाकार : अभिषेक बच्चन, दीपिका पादुकोण, सिकंदर खेर, विशाखा सिंह

निर्माता : सुनीता गोवारीकर ,अजय बिजली , संजीव के। बिजली

संगीत : सोहेल सेन

बैनर : आशुतोष गोवारीकर प्रोडक्शन्स, पीवीआर पिक्चर्स

लगान और जोधा अकबर जैसी सफल फिल्म बना चुके निर्देशक आशुतोष गोवारीकर की फिल्म खेले हम जी जान से एक बेहतरीन फिल्म है। यह एक ऐसी फिल्म है जिसकी स्टोरी लाइन शानदार है , सिनेमैटोग्राफी कमाल की है। दरअसल इस फिल्म को उन गुमनाम शहीदों के प्रति सच्ची श्रंद्धाजलि कहना चाहिए जिन्होंने १८ अप्रैल १९३क् को चिटगांव में अग्रेंजो के खिलाफ विद्राह की क्रांति का आगाज किया था। यह एक ऐसी फिल्म है जिसे सभी भारतीयों को जरूर देखना चाहिए । फिल्म मानिनि चटर्जी की किताब डू एंड डाई द चिटगांव अपराइजिंग 1930-1934पर आधारित है। फिल्म की पटकथा, कलाकारों का अभिनय और सबसे खास बात फिल्म का संपादन उम्दा है। फिल्म कुछ लंबी जरूर है लेकिन इसकी कहानी जिस रफ्तार से आगे बढ़ती है उसमें एक रोचकता है।


फिल्म में अभिषेक बच्चन, दीपिका पादुकोण, विशाखा सिंह के अलावा नए कलाकारों ने भी बेहतरीन अभिनय किया है, यहां आपको फिल्म निर्देशक आशुतोष गोवारीकर की तारीफ करनी होगी। दअसल आशुतोष ने जिस तरह से लगान में कलाकारों की एक पूरी टीम से बेहतरीन अभिनय करवाने में सफल रहे थे वैसा ही कुछ इस फिल्म को देखने पर लगता है और हर पात्र अपने अभिनय के साथ उभरकर सामने आता है। सिंकदर खेर ने उम्दा अभिनय किया है और कुछ बाल कलाकारों ने अपनी उम्र के हिसाब से जिस तरह अपने चरित्र को जिया है वह कमला का है और यहीं फिल्म निर्देशक आशुतोष गोवारीकर का जादू है, इस बात के लिए उनको साधुवाद दिया जाना चाहिए।


फिल्म की कहानी 18अप्रैल 1930की रात चिटंगाव के उस विद्राह पर आधारित है जिसमें सूज्र्या सेन या सूर्या (अभिषेक बच्चन) अपने कुछ दोस्तो और 56अन्य किशोरों के साथ अंग्रेजों के खिलाफ विद्राह कर उनके अलग अलग कई ठिकानों पर एक साथ हमला कर देते हैं। सूज्र्या सेन भारतीय गणतंत्र सेना बनाकर देश की आजादी के लिए प्रयास करते हैं उनकी सोच से प्रभावित होकर 56किशोर उस वक्त उनके रास्ते पर चल निकलते है जब अंग्रेज उन किशोरों से उनके खेल के मैदान को छीन लेते हैं। कल्पना दत्ता (दीपिका पादुकोण) प्रीति(विशाखा सिंह)भी इस आंदोलन का हिस्सा बनती है। वे अपने इस विद्रोह में उतने सफल तो नहीं होते लेकिन आजादी पाने के लिए एक ऐसा जज्बा भरने में सफल हो जाते है जिसकी उस समय देश को बहुत जरूरत रहती है। सत्य घटना पर आधारित इस फिल्म को बहुत ईमानदारी के साथ बनाया गया है।


फिल्म की अवधि थोड़ी सी लंबी है और शुरु में इसकी रफ्तार भी कुछ कम है। मध्यांतर के बाद फिल्म में तेजी तो आती है लेकिन यहां फिल्म की पटकथा थोड़ी सी लंबी खींच गई है , इसके बावजूद फिल्म दर्शक को निराश नहीं करती। यह एक ऐसी फिल्म है जो देश प्रेम की बात करती है और अपने समयकाल की सच्ची अभिव्यकित है। गुमनाम शहादत को दिखाती इस सार्थक कोशिश को सलाम करते हुए सरकार को भी इस फिल्म को टैक्स फ्री घोषित कर देना चाहिए, जिससे कि अधिक से अधिक दर्शक इस फिल्म को देख सके।
राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।