सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लम्हा : खूबसूरत फिल्म का जुदा अंदाज

बेहतरीन सिनेमेटोग्राफी, लाजवाब संवाद के साथ अपने समय के सच को कहती फिल्म लम्हा एक सार्थक प्रयास है। फिल्म निर्देशक राहुल ढोलकिया ने इस फिल्म को बनाने के लिए जी-तोड़ मेहनत की है। बिपासा बासु ने अजीजा के रोल में बेहतरीन अभिनय किया है और संजय दत्त भी अपनी पहचान के अनुरूप शानदार नजर आए हैं। फिल्म उन लम्हों की कहानी है जिसमें दर्द के मंजर से जुड़ी कई कहानियां है, आतंक की गिरफ्त में जकड़े हुए कश्मीर के दर्द को समझने का एक प्रयास।

फिल्म का पहला भाग बेहद खूबसूरत बन पड़ा है और हर लिहाज से बेहतर है। कहानी के बीच में जिस तरह से गीतों को इस्तेमाल किया गया है वह फिल्म की संवेदनशीलता को बताता है। सईद कादरी ने बेहद खूबसूरत बोल लिखे हैं जो फिल्म की खूबसूरती को बढ़ा देते हैं। हालांकि फिल्म का अंत और बेहतरीन हो सकता था लेकिन एके-47से निकली गोली के शोर में खोए हुए बचपन की संवेदनशीलता को बताने के प्रयास की तारीफ की जानी चाहिए।
फिल्म कहती है कश्मीर कुछ लोगों के लिए एक कंपनी बन चुका है और शांति की राह में आतंकवादियों के साथ साथ ऐसे लोग भी जिम्मेदार है। यह फिल्म कश्मीर की महिलाओं की जिंदगी से जुड़ी संवेदनशीलता को भी बताती है और कहती है उनकी खूबसूरत आंखों में एक आक्रोश है और अपनों के खोने का दर्द भी। फिल्म में अजीजा का किरदार इस बात की तरफ इसारा करता है। लश्कर -ए -तैयबा को जम्मू कश्मीर में अंशांति फैलाने के लिए हरसंभव प्रयास करते हुए दिखाया गया है जिनके लिए एक 47 का मतलब ही आजाद कश्मीर1947 से है।

फिल्म फिल्म में संजय दत्त विक्रम नाम के एक ऐसे किरदार में नजर आए हैं जो आतंकवादियों के नापाक इरादों को नाकाम करने के लिए अंडर कवर एजेंट (गुल जहांगीर) के रूप में कश्मीर जाता है। वहीं अनुपम खेर (हाजी शाह) के रोल में नजर आए हैं जो 1989 खौफनाक मंजर को फिर दोहराना चाहते हैं और चुनावों का बहिष्कार करते हैं।

कुणाल कपूर ने सुधारवादी नेता का रोल किया है और वह फिल्म में सुधारवादी नेता के रूप में लोकतंत्र के हिमायती नजर आए हैं। फिल्म देखे जाने योग्य है और यह एक सार्थक प्रयास है। इसे कम से कम एक बार तो अवश्य देखना चाहिए।

राजेश यादव

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।