सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डैडी कूल : लचर पटकथा, बेदम आइडिया


बैनर : मारुती पिक्चर एवं बिग पिक्चर
निर्देशक : के. मोहन मुरली राव
कलाकार : सुनील शेट्टी, आफताब शिवदासनी, जावेद जाफरी, राजपाल यादव, आशीष चौधरी, सोफी चौधरी, टच्यूलिप जोशी, आरती छाबड़िया, किम शर्मा, और प्रेम चोपड़ा
संगीत : रागव सच्चर
कहानी और पटकथा : तुषार हिरानंदानी
संवाद : फरहाद - साजिद
लंबे समय बाद फिल्म निर्देशक के. मोहन राव अपनी नई फिल्म डैडी कूल के साथ दर्शकों से रुबरू हुए है। फिल्म का नाम भले ही डैडी कूल हो लेकिन इसमें द्विअर्थी संवाद, और गालियों को बेखौफ अंदाज में प्रस्तु करने में निर्देशक ने कुछ ज्यादा ही ध्यान दिया है। बेदम कहानी और एक लचर पटकथा के साथ कोई भी निर्देशक बेहतरीन फिल्म किस तरह बना सकता है यह सोचने वाली बात है। ऐसा लगता है बॉलीवुड में स्टोरी आइडिया का टोटा कुछ ज्यादा ही हो गया है।
जहां तक फिल्म की कहानी की बात है तो स्टीव (सुनील शेट्टी) अपने पिता डगलस के फ्यूरनल में अपने रिश्तेदारों को आमंत्रित करता है। वह गोवा में अपनी मां और पत्नी के साथ रहता है। फिल्म में एंड्रू (राजपाल यादव) नामक एक चरित्र सुनील शेट्टी के पिता डैडी कूल डगलस के साथ अपने झूठे संबधों के आधार पर स्टीव को ब्लैकमेल करने का प्रयास करता है लेकिन उसका भेद अंत में खुल जाता है। अंत्येष्ठी में कॉमेडी पैदा करने के प्रयासों में घटिया पटकथा और अश्लील संवादों ने ऐसा कांधा लगाया है कि मरने वाले तक की आह निकल गई है।
हालांकि फिल्म में कालरेस (जावेद जाफरी), आयशा (सोफी चौधरी) मारिया (ट्यूलिप जोशी), माइकल (आफताब शिवदासनी) ने अपने अभिनय से हास्य उत्पन्न करने का कुछ प्रयास किया है।जहां तक कलाकारों की बात है तो सुनील शेट्टी का और आफताब शिवदासनी ने अपने रोल के साथ न्याय किया है। स्टीव के रोल में सुनील शेट्टी ने उम्दा अभिनय किया है और अंत में जो उन्होंने स्पीच दी वह बेहद उम्दा है। सोफी चौधरी , ट्यूलिप जोशी और आरती छाबड़िया के लिए करने लायक कुछ विशेष नहीं था इसलिए उनसें कुछ बेहतर की उम्मीद करना बेमानी बात होगी। कॉमेडी फिल्म में राजपाल यादव जैसे कलाकार को गंभीर और खलनायक की भूमिका देना समझ के परे की बात है।
संगीतकार राघव सच्चर ने फिल्म के प्रोमो में अच्छा संगीत दिया है और चूंकि फिल्म में गाने की गुंजाइश कम थी इसलिए राघव को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। फिल्म में द्विअर्थी संवादों का इस्तेमाल से हास्य उत्पन्न करने की कोशिश की गई है। हालांकि संगीत प्रधान फिल्म ना होने के बावजूद उतनी निराश नहीं करती है, हां इसका प्रस्तुतीकरण कुछ अलग अंदाज में होता तो फिल्म में बेहतर हास्य उत्पन्न हो सकता था।
**
Rajesh Yadav

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।