सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Film Review : ‘सुल्‍तान’ बपंर मनोरंजन की गारंटी, पर क्‍या बजरंगी भाईजान का रिकार्ड टूटेगा ?



फिल्‍म : सुल्‍तान
निर्देशक : अली अब्‍बास जफर
कलाकार : सलमान खान,अनुष्‍का शर्मा, रणदीप हुड़डा, अमित साध
संगीत : साजिद वाजिद
जॉनर : ड्रामा
रेटिंग : ****

क्‍या बॉक्‍स ऑफिस पर सलमान की फिल्‍म 'सुल्‍तान' 'बजरंगी भाईजान' का रिकार्ड तोड़ पाएगी ? ईद पर रिलीज हुई 'सुल्‍तान' के लिए यह सवाल ही बड़ा कहा जाएगा क्‍योंकि यहां सलमान का मुकाबल खुद से हैं। आखिर ऐसा क्‍यों ?  जवाब है कभी हमारे पास बॉक्‍स ऑफिस का बादशाह था अब सुल्‍तान है यह एक फैंस का बयान है जो बताता है आज का दौर में बॉक्‍स ऑफिस पर सलमान हिट की गारंटी बन गए हैं। सलमान खान ने फिल्‍म सुल्‍तान के साथ एक बार फिर ईद पर अपने फैंस को बेहतरीन तोहफा दिया है। फिल्‍म की कहानी मनोरंजन से भरपूर है और परिवार के साथ देखी जा सकती है,जिसमें एक्‍शन, इमोशन के साथ कॉमेडी का हल्‍का डोज भी है। फिल्‍म निर्देशक अली अब्‍बास जफर ने बेहतरीन निर्देशन किया है और रिंग में सलमान को देसी अंदाज की फाइट और बेतरीन संवाद के साथ दिखाया है,जो फिल्‍म का बेहतरीन पक्ष हैं

वहीं दूसरी तरफ इंटरवल के बाद फिल्‍म की लंबाई का अधिक होना और कमजोर संपादन फिल्‍म का कमजोर पक्ष है। लेकिन सलमान,अनुष्‍का और अमित साध का बेहतरीन अभिनय फिल्‍म को बॉक्‍स ऑफिस पर बेहतरीन सफलता दिला सकता है।

दूसरी तरफ फिल्‍म की कहानी में नयापन कुछ नहीं है,बॉलीवुड में एक दौर था जब प्रेमी और प्रेमिका जब विवाह की बात करते थे तो लड़की का पिता पूछता था कि तुम हो कौन और करते क्‍यो हो
?कुछ बनके दिखाओ फिर मेरी बेटी का हाथ मांगना लेकिन सुल्‍तान में नायिका ही इसी सवाल को दूसरे अंदाज में सुल्‍तान के सामने रख देती है और कहती है इंसान उससे प्‍यार करता है जिसकी नजरों में उसकी इज्‍जत हो मतलब की प्‍यार शुरु होने से पहले ही एक चैलेंज का सामने आना और बॉलीवुड स्‍टाइल में हीरो अपने आपको साबित करने के लिए और अपनी चाहत को पाने के लिए वह सबकुछ करता जो उसे उसकी नायिका की नजरों में सम्‍मान दिला सके।

वैसे जब आप किसी सुपर स्‍टार को लेकर फिल्‍म बना रहे हो तो कहानी थोड़ी कमजोर भी हो तो बॉक्‍स ऑफिस पर फिल्‍म की सफलता उसके स्‍टार पॉवर से चलने की पूरी संभावना रहती है। अली अब्‍बास जफर ने भी सलमान मेनिया के क्रेजी फैंस का पूरा ध्‍यान रखा है जिसका फायदा फिल्‍म को मिलना तय है।

हालांकि इन सब बातों के बावजूद आदित्‍य चोपड़ा ने फिल्‍म में आपको एक्‍शन,इमोशन और रोमांस के साथ एक ऐसे व्‍यक्ति की कहानी को लिखा है जो आपको एक बेहतरीन संदेश भी देती है कि हारो मत,वक्‍त से समझौता मत करो,चीजों से भागो नहीं बदल डालो,अपने सपनों को पूरा करने के लिए जो करना है वह सब कुछ करो,एक जिद जो आपकी दुनिया बदल दे उसके लिए अपनी पूरी ताकत से प्रयास करो।

कहानी
फिल्‍म की कहानी आदित्‍य चोपड़ा ने लिखी है जो सुल्‍तान (सलमान खान) की जिंदगी की कहानी कहती है। कहानी हरियाणा के एक गांव की है जहां सुल्‍तान को एक रेसलर आरफा (अनुष्‍का शर्मा) से प्‍यार हो जाता है, लेकिन वह सुल्‍तान को दोस्‍त समझती है। एक दिन आरफा को सलमान की चाहत का पता चलता है और उस वक्‍त वह एक ऐसा कमेंट कर देती है जो बताता है कि इंसान उससे प्‍यार करता है जिसकी नजरों में उसकी इज्‍जत हो, बस यहीं एक कमेंट सुल्‍तान की जिंदगी बदल देता है और वह अपने लिए सम्‍मान और प्‍यार को पाने के लिए कुछ कर गुजरने की जिद करता है और रेसलर बन जाता है। बस यहीं से शुरु होती है रेसलर सुल्‍तान की जिंदगी जिसमें उसके सपने के सच होने, प्‍यार की चाहत के मिलने बिछड़ने और दर्द की दास्‍तान के साथ ही खुद के खोजने के बेतरीन कहानी है। आखिर रेसलर सुल्‍तान की जिंदगी में कौन-कौन से उतार चढ़ाव आते हैं ? आरफा की मोहब्‍बत उसे कहां ले जाती है? ये कुछ ऐसे सवाल है जिनका जवाब खोजने के लिए आप बॉक्‍स ऑफिस पर सलमान की सुल्‍तान को देखने जा सकते हैं।

अभिनय
फिल्‍म में सलमान खान जहां इमोशनल रोल में बेहतर नजर आए हैं वहीं रिंग में एक्‍शन के देसी अंदाज और बेहतरीन हरियाणवीं संवाद के साथ उनका अभिनय शानदार है जो उनके फैंस को पसंद आएगा। अनुष्‍का ने आरफा के रोल में शानदार तेवर दिखाए है और रिंग में जहां वे अच्‍छी फाइटर के किरदार को दमदार अंदाज में जिया। अभिनय की बात करें तो सलमान और अनुष्‍का की ऑन स्‍क्रीन कैमेस्‍ट्री गजब की है जो इस फिल्‍म को और भी बेहतर बनाती है । सबसे खास बात सलमान के दोस्‍त के रूप में अमित साध ने गोविंद नाम के किरदार में उम्‍दा और प्रभावित करने वाला अभिनय किया है। रणदीप हुड़डा ने भी अपने रोल के साथ न्‍याया किया है जिसकी उम्‍मीद उनसे की जाती है।


निर्देशन
फिल्‍म निर्देशक अली अब्‍बास जफर ने आदित्‍य चोपड़ा की लिखी कहानी के साथ बेहतरीन निर्देशन किया है। दरअसल जब आप सलमान जैसे सुपर स्‍टार को लेकर फिल्‍म बनाते हो तो आपको कहानी के साथ ही स्‍टार के फैंस का ध्‍यान भी रखना पड़ता है और फिल्‍म
सुल्‍तान में अली अब्‍बास जफर ने सलमान के किरदार को ऐसे रचा है जिसमें उनका एक्‍शन, इमोशन, रोमांस और कॉमेडी के पंच के साथ बेहतरीन हरियाणवी संवाद का तड़का है। कलाकारों से उन्‍होंने बेहतरीन अभिनय कराया है खासकर रिंग में रेसलर के बीच होने वाली फाइटिंग ।लेकिन जब आपके पास आदित्‍य चोपड़ा जैसे लेखक की लिखी कहानी हो तो उसका संपादन भी उतना बेहतरीन होता तो बात कुछ और होती। कमजोर संपादन और फिल्‍मी की लंबाई फिल्‍म का कमजोर पक्ष जरूरी है लेकिन सुपर स्‍टार सलमान खान और अनुष्‍का का बेहतरीन अभिनय इस कमी को पूरा कर देते हैं।
संगीत
साजिद-वाजिद ने फिल्‍म का संगीत दिया है जो जबरदस्‍त हिट तो नहीं कहा जाएगा लेकिन कूल और औसत संगीत है जो कहानी के साथ न्‍याय करता है। फिल्‍म के कुछ गीत तो पहले ही हिट हो चुके हैं।

क्‍यों देखें
आप सलमान के फैंस हैं तो जाहिर सी बात है आपको यह फिल्‍म पसंद आएगी,क्‍योंकि इसमें सलमान का एक्‍शन इमोशन और रोमांस का बेहतरीन अंदाज दिखेगा। दूसरी खास बात सलमान का हरियाणवी अंदाज आपको पसंद आएगा। सबसे अच्‍छी बात यह है कि फिल्‍म मनोरंजन से भरपूर है जिसे आप अपने पूरे परिवार के साथ देख सकते है। लेकिन इन सब बातों के साथ आपको बता दें कि फिल्‍म का कमजोर पक्ष उसका अधिक लंबा होना है,इंटरवल के बाद फिल्‍म थोड़ी कमजोर पड़ती नजर आती है,लेकिन अगर आप सलमान स्‍टाइल सिनेमा को पंसद करते हैं तो यह फिल्‍म को आपको जरूर पसंद आएगी।  


क्‍या 90 करोड़ में बनी फिल्‍म सुल्‍तान बजरंगी भाईजान का रिकार्ड ब्रेक कर पाएगी? यह एक ऐसा सवाल है जिसका जवाब आने वाले दिनों में मिल सकेगा।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।