सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

व्यंग्य - ई गोला पर बहुत ही Wrong Number का गेम चल रहा है भाई



व्यंग्य #
जनवरी  के ताजा समाचार एक बाबा ने 4  बच्चों का सिद्वान्त दिया, दूसरे बाबा मैसेंजर बन परदे पर  आया, फिल्म देखकर मैडम ने दिया इस्तीफ़ा, साथ में 9  और लोगों ने मारा तड़का। मफलर मैन से चुनाव में डिजिटल बाबा को आया पसीना तो भक्त ने किरण दिखा जगाई आस।

अनसन से  भूख को मात देने वाले टाइम के पर्सन ऑफ द  ईयर, टोपी वाले संत ने कहा मेरे साथ रहने वाले लोग अब बिना फोन किए ही  कहीं चले जाते हैं और बात भी नहीं  करते।  

सबसे खास बात ई  रही की ई जो धरती रूपी गोला है, न ऊपर एक pk  रूपी टल्ली आया और बॉलीवुड का सारा रिकॉर्ड तोड़ कमाल का बिज़नेस  किया।  इस बात से बॉलीवुड के एक सज्जन तो अब तक ये सोच रहे हैं कि हैप्पी न्यू  ईयर में ई का हो गवा। 

उधर, नासा ने धरती से भी बड़ा एक तारा खोज निकला है। हमसे मीडिया वाली एक मोहतरमा ने पूछा की वहां जीवन की कितनी संभावना हैं, तो हमने कहा कि अब ई बात तो या तो नासा वाले जानत हैं या फिर अपना pk  या फिर कृष का दोस्त जादू कुछ ताजा और ब्रेकिंग बता दे। 

धर्म का खेल जारी है। ग्लोब पर हत्या का आंकड़ा देखकर खुदा टेंशन मा हैं। इधर, अपने बाबा लोगों के बयान से स्वर्ग में भी टैंशन का माहौल है। सुना है कि सारे धर्मों के देवता मिलकर मीटिंग करने वाले हैं कि आखिर हमसे गलती कहां हो गई कि कुछ लोग हमारे नाम पर सच्चे और अच्छे लोगों को मार रहे हैं और कुछ हमारे नाम पर अपनी राजनीति की धांसू दुकानदाऱी चलना चाह रहे हैं।

पेशावर, बोकोहरम और फ्रांस में धर्म के नाम पर मारे गए लोगों ने इतने तीखे सवाल पूछें है कि सारे धर्मों के देवता कुछ परेशान से हैं। उधर, सूत्रों से प्राप्त ताजा सूचना के अनुसार नर्क में कुछ आंतक फैलाने वालो की धांसू कुटाई चालू है।

सबसे खास बात अपने माही ने किसी रॉन्ग बात पर नाराज होकर टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया। कुछ देर के लिए इंडिया इमोशनल हो गया लेकिन विराट जनसंख्या वाला अपना देश worldcup में माही के साथ जीत के लिए तेज कदमों से आगे की सोच रहा है।

 अगले महीने प्यार वाला महीना शुरू होने वाला है लेकिन मजनू टाइप दिखने वाले लोगों की कुटाई एक धार्मिक पार्टी ने अभी से चालू कर दी है। ई गोला पर बहुत ही wrong number का गेम चल रहा है भाई।

Rajesh Yadav






टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।