सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Manaara ..'something that shines'

bye Rajesh Yadav
Barbie Handa is Priyanka Chopra's first cousin, who is now all set to make her silver screen debut in Anubhav Sinha's Zid.

Barbie, in order to be walking with the times, has now rechristened herself as Manaara, courtesy,
Anubhav Sinha. Speaking about the name change, Sinha reasoned that Barbie was too childish a name for a grown-up girl.

Name Manaara ..'something that shines'

He added that Manaara also happens to be her nickname. Seconding his thoughts was Barbie herself... we mean... Manaara herself, who said that she liked the very name Manaara, which means a Greek word for 'something that shines'. 
dare-bare posters 

Manaara is making news for multiple reasons and one of them being the film's dare-bare posters which 
features her. Explaining which she says, since we are in 2014, she can't be in a veil ('ghoonghat').

When asked for her sister Priyanka's reaction to the posters, Manaara was quick to reply that prior to the poster shoot, she had called up Priyanka Chopra (who was in Barcelona at that time) and she gave her nod for the same, but with a condition that she had to ensure that it's done aesthetically and didn't look sleazy. 
Zid is slated for a release on 28th November and is creating quite a buzz amongst the who’s who of B-Town. 13 lakh hits just 4 day IN Youtube

film is Zid trailer has created a new record on Youtube. In just 4 days of its uploading, the trailer has got a whopping 13 lakh hits. Due credit goes to the leading lady Barbie Handa (sister of Bollywood star heroine Priyanka Chopra) who did a no holds barred act when it came to exposing, smooching and lovemaking.





टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।