सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

filmमीटर # मनारा की बोल्ड ज़िद इमरान की ऊँगली पर भारी पड़ेगी



मनारा की बोल्ड ज़िद  इमरान की ऊँगली पर भारी पड़ेगी 

शुक्रवार को बड़े परदे पर मनारा की फिल्म  ज़िद  इमरान की ऊँगली  बॉक्सऑफिस पर आमने सामने है। जेडप्लस भी इन दोनों  फिल्मो के साथ आ  रही है लेकिन उसकी चर्चा फ़िलहाल इन दोनों  अपेछा कम है।  
डिजिटल मीटर  के आधार पर बॉक्सऑफिस पर इन दोनों   फिल्मों की तुलना करे तो हम पाते है की फिल्म ज़िद अपने बोल्ड और सेंसुअल स्टोरी के चलते इमरान हासमी की फिल्म ऊँगली पर भारी  पड़  सकती है।  

  1. गूगल सर्च पर लोगों की पसंद और सर्च का ग्राफ़ देखने पर हम पाते है की ज़िद का सर्च जहाँ  १०० परसेंट तक जा रहा है वही ऊँगली को 36  परसेंट लोग सर्च कर रहे है। 
  2. दोनों फिल्म में एक बात खासकर लोग पसंद  है   वह फिल्म का  गीत और संगीत का ज़बरदस्त होना।  ज़िद के गाने लोगो ने  सर्च करके सुने है बल्कि डाउनलोड करने वाले लोग भी अच्छी  संख्या में है।  ऐसा ही फिल्म ऊँगली के गीत डांसबसंती  है , इसको लेकर भी लोगो का  ज़बरदस्त रिस्पांश   है। 
  3. प्रियंका की बहन मनारा ने अपने  बोल्ड किरदार के साथ फिल्म रिलीज़ होने से पहले ही लोगो की पसंद बन गयी है और लोग उनको पिछले १० दिनों में इमरान हासमी से अधिक  सर्च कर रहे है।  लोगो ने हॉट मनारा के  कीवर्ड से सबसे अधिक  सर्च किया है।  






डिजिटल मीटर को देखने से जो सबसे चौंकाने वाली बात नज़र आई उसके अनुसार  जयपुर का  Bhakrota एक ऐसी जगह है  ने इन दोनों  को सबसे अधिक सर्च किया है।
सर्च के मामले में 
Bhakrota के लोगो ने मुंबई हावड़ा औ रभोपाल और New Delhi को भी पीछे छोड़ दिया है। 


फिल्म  ऊँगली  को सर्च करने वाली  टॉप सिटी 


Bhakrota
Pune
Howrah
New Delhi
Bhopal
Ahmedabad
Indore
Lucknow
Mumbai
Jaipur




फिल्म ज़िद को सर्च करने वाली  टॉप सिटी 


Bhakrota
Howrah
Pune
Indore
Lucknow
Raipura
Ahmedabad
Bhubaneswar
Bhopal
New Delhi


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।