सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

DELHI COMES ALIVE WITH THE COLOURS OF THE NORTH EAST

New Delhi .The 2nd day of the ongoing North East Festival turned out to be a roaring success and Delhi embraced the North East with open arms. After a successful inaugural last year, the second edition of the North East Festival is being held in great style from 7th to 10th November 2014 at IGNCA, Janpath, New Delhi.A dazzling fashion show

A dazzling fashion show with some of the most famous fashion designers of the North East like Dhiraj Deka, Garima Saikia Garg, Yana Ngoba, LD Roslyn Konshai along with other upcoming designers showcased their finest creations. Icons of the region like Shiva Thapa, Rajani Basumatary and Mahadev Deka rounded off the show by walking the ramp.

The evening saw the crowd go wild as the biggest names in music took centrestage in rocking style. King of Naga folk blues Guru Rewben Mashangva, Assamese heartthrob Zubeen Garg, Tetseo Sisters, Mayukh Hazarika, Frisky Pints set the stage on fire with their performances.


Adding colour to the proceedings, artistes from various states of North East India along with Sangeet Natak Akademi presented a range of ethnic dances from the region. Sumptuous cuisines carrying fragrances of the North East were in abundance in the various food stalls along with exquisite handicrafts and ethnic handlooms from the region. Various music bands like from NER like Foot Wings, Stuti Choudhury, Minutes of Decay etc. performed all through the day much to the delight of the onlookers.

A film festival featuring the best of North East cinema commenced as well, which was inaugurated by Rajani Basumatary, one of the biggest film directors from the region.

The “North East Festival”, has become a brand which is synonymous with the unification of the various stakeholders of North East under one dynamic platform. North East Festival is organised by the reputed socio-cultural trust, Trend MMS, in association with North East Community of Delhi, Ministry of Home Affairs, Govt. of India, Ministry of DoNER, Govt. of India and IGNCA.













टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।