सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'Going Home' : उस रात क्या हुआ आलिया के साथ ......?


 Rajesh yadav
फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें 
'Going Home' by Vikas Bahl featuring Alia Bhatt सोशल मीडिया में चर्चा में

विकास बहल के निर्देशन में बनीं शार्ट फिल्‍म गोइंग होम सोशल मीडिया में चर्चा बन गई थी। सोशल मीडिया मेंइस फिल्‍म को देखने के बाद लोग इसकी थीम का शानदार बताने के साथ ही इस पर सवाल भी उठा रहे हैं। इसे देखने के बाद लोग ने कहा कि  यह एक शानदार संदेश देने वाली शार्ट स्‍टोरी है, लेकिन रियल लाइफ में भी ऐसा हो पाना संभव नहीं है। यह छोटी सी फिल्‍म महिला सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बॉलीवुड की चर्चित फिल्‍म क्वीन के निर्देशक विकास बहल ने सड़क महिलाओं की सुरक्षा को बेहतर करने और लोगों को जागरूक करने के लिए बनाई है। फिल्‍म में बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने अभिनय किया है। इस वीडियो को अपलोड हुए 24 घंटे से अधिक का समय हो चुका है और youtube पर इसे अभी तक 1 लाख 30 हजार से अधिक लोग देख चुके हैं और 1275 लोग इसे लाइक कर  चुके हैं।



फिल्‍म में स्‍टोरी के साथ ही मध्‍यम संगीत बैंग ग्राउंड में बजता है और आलिया भट्ट ने अपनी इस छोटी सी भूमिका में मासूम लड़की का बेहतरीन किरदार निभाया है। इस वीडियो की थीम को पसंद करने वाले लोग है तो इसकी आलोचना करने वाले भी है सरल ठाकुर इस वीडियो को देखने के बाद कहते हैं रियल लाइफ में ऐसा होना थोड़ा मुश्किल मालूम पड़ता है, वहीं कुछ लोग यह भी सवाल उठाते है कि अगर लड़की ऐसी दुनिया में रह रही है जहां इतने बेहतरीन लोग है तो उसकी मां उसकी सुरक्षा को लेकर चिंतित क्‍यों है ? ऐसा रियल लाइफ में संभव नहीं । वहीं दूसरी तरफ 41 लोग ऐसे है जिन्होंने इस वीडियो को डिस लाइक किया है, लेकिन ऐसे लोगों की सोशल मीडिया में यह करकर लोग खिचाई कर रहे हैं कि ये वो लोग है जो यह सोचते है कि शार्ट ड्रेस के कारण रेप की वारदात की संभावना अधिक बढ़ जाती है।  

क्‍या है फिल्‍म गोइंग होम :

 लेट नाइट को सुनसान सड़क पर कार चलाते हुए एक यंग लड़की (आलिया भट्ट) अपने घर की तरफ लौट रही है। वह अपने मां से बात करते हुए बताती है कि अगले दस मिनट में वह घर पहुंच जाएगी और कॉल कट कर देती है। लेकिन इसके कुछ देर बाद अचानक कम रोशनी वाली सुनसान सड़क पर  उसकी कार बंद हो जाती है, वह कार चलाने का प्रयास करती है लेकिन सफल नहीं होती है। कुछ देर बाद वहां एक एसयू वी आती है जिसमें पांच आदमी सवार रहते है और लड़की को देखकर कार ठीक उसके पास रोक देते हैं। यहां से उनके हाव भाव और लड़की से बातचीत के अंदाज और फिर अपनी एसयू वी में लड़की को घर छोड़ने के लिए बिठा लेते है, यहां से फिल्‍म को ऐसा बनाया गया है कि इसे देखने वाला दर्शक हर छड़ यह सोचता है कि क्‍या लड़की सुरक्षित घर पहुंच भी पाएगी या नहीं ? फिल्‍म के अंत में लड़की सुरक्षित घर पहुंच जाती है, दरअसल गोइंग होम के माध्यम से विकास बहल ने यह संदेश देने का प्रयास किया है कि युवा लड़कियों और महिलाओं को सुरक्षित माहौल देना चाहिए और ऐसा संभव है। निर्देशक का मानना है कि वीडियो देखने में यूरोपियन लग सकता है लेकिन ऐसा रियल लाइफ में भी संभव मनाया जा सकता है। 




शार्ट फिल्‍म समीक्षा : गोइंग होम
निर्देशक : विकास बहल
कलाकार : आलिया भट़ट और अन्‍य 

आप इस शार्ट फिल्‍म को देखने के बाद क्‍या सोचते हैं लिख भेजें 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।