सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

BOLLYWOOD DIGITAL METER : गोधरा में कैटरीना तो इंदौर में श्रद्धा कपूर का डंका


post # RajeshYadav
बैंग - बैंग को लेकर यूथ क्रेजी हुआ, उत्तर भारत में हैदर को मिलेगी जबरदस्त सफलता ।


एक तरफ है बड़े बजट और बड़े सितारों से सजीं बैंग बैंग तो दूसरी तरफ शाहिद कपूर और श्रद्धा कपूर की कम बजट में बनीं हैदर। बॉक्स ऑफिस पर इस बार टक्‍कर जोरदार है। बैंग बैंग अपने बजट, लोकप्रिय स्‍टार कॉस्ट और 4500 सिनेमाघरों में रिलीज होने के चलते कमाई के मामले में पहले वीकएंड में आगे रहेगी। लेकिन शानदार कहानी, बेहतरीन निर्देशन, गुलजार के लाजवाब बोल से सजीं हैदर भी सफल रहेगी।

कैटरीना और श्रद्धा कपूर : क्‍या कहता है बॉलीवुड का डिजिटल मीटर
बॉलीवुड के आज के डिजिटल मीटर में हम कैटरीना और श्रद्धा कपूर के पिछले 30 दिनों के लोकप्रियता मीटर को देखने पर पता चलता है कि इंदौर, पुणे, अहमदाबाद में श्रद्धा कपूर को लेकर दर्शक ज्‍यादा क्रेजी रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ गोधरा, पुणे और हावड़ा में कैटरीना कैफ का क्रेज जबरदस्त रहा है।

कैटरीना कैफ लोकप्रियता में काफी आगे
कैटरीना कैफ लोकप्रियता के मामले में श्रद्धा कपूर से काफी है उनको लेकर 55 फीसदी दर्शक क्रेजी है तो दूसरी तरफ 11 फीसदी लोग श्रद्धा कपूर को सर्च कर रहे हैं।

मप्र,गुजरात, चंडीगढ़ और महाराष्‍ट्र में श्रद्धा कपूर आगे
लेकिन सबसे मप्र,गुजरात, चंडीगढ़ और महाराष्‍ट्र ये चार स्टेट ऐसे हैं जहां श्रद्धा कपूर के प्रशंसकों की संख्‍या जबरदस्त है और यहां 40 फीसदी ऐसे यूजर रहे हैं जिन्होंने हैदर फिल्‍म के गानों के साथ ही श्रद्धा कपूर से जुड़ी सूचना और फोटो सर्च किए है।



बैंग - बैंग बनाम हैदर : 85 फीसदी लोगों ने बैंग बैंग तो 15 फीसदी ने हैदर को सर्च किया

लोगों की पसंद, फिल्‍म की स्‍टार कॉस्ट की लोकप्रियता और 4500 की स्क्रीन के साथ ही जिस तरह का धांसू प्रचार बैंग बैंग को मिला है उसे देखकर एक बात तो साफ कहीं जा सकती है कि कमाई के मामले में बैंग बैंग पहले वीकएंड में धांसू रिकार्ड तोड़ सफलता अपने नाम करेगी। फिल्‍म का 100 करोड़ में जाना तय है लेकिन यह देखने वाली बात होगी कि 130 से 140 करोड़ के बजट में बनीं फिल्‍म का कुल बिजनेस आखिर कितना रहता है।
हैदर : कब बजट में बनीं बेहतरीन फिल्‍म
वहीं विशाल भारद्वाज के निर्देशन में बनीं, गुलजार के खूबसूरत संगीत से सजीं हैदर अपनी बेहतरीन कहानी, लाजवाब सिनेमैटोग्राफी और कलाकारों के दमदार अभिनय के दम पर लोगों को पसंद आएगी। जिस तरह से फिल्‍म समीक्षकों ने फिल्‍म को बेहतरीन रेटिंग दी है उसे देखकर यह तो कहा ही जा सकता है कि हैदर एक बेहतरीन फिल्‍म है जो 100 करोड़ के क्लब में जा सकती है। गौरतलब है कि हैदर 1100 स्क्रीन में रिलीज हो रही है लेकिन कम बजट में बनीं इस फिल्‍म को अक्टूबर के पहले सप्ताह में अवकाश के दिनों का फायदा मिलेगा जो उसे सुपरहिट बनाने में मददगार होंगे।

सर्च ट्रेंड को देखकर यह कहा जा सकता है कि लोग फिल्‍म के गीत संगीत को लेकर क्रेजी रहे हैं और रिलीज डेट को जानने की उत्सुकता भी लोगों में अच्छी खासी रही है। इंदौर, पुणे, अहमदाबाद और दि‍ल्ली जैसे शहरों में पहले वीकएंड में यह फिल्‍म अच्‍छा व्यापार करेगी।




टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।