सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

“ Woh Bacchan hai..aur hum Bacche hai.”



TV STAR Rishabh Sinha,  debut on the big screen with Kaanchi. 

TV heartthrob Rishabh Sinha, who was last seen in the popular TV show Qubool Hain, is playing a negative character in Subhash Ghai’s upcoming film Kaanchi. Rishabh shares his experience on his first meeting with Subhash Ghai and how he bagged the role for the film.
"When the COO of Mukta Arts called me, I was like why would they want me? Why would Subhash Ghai even meet me? I was called to the office and waited for Subhash Ghai and in just five minutes, I was interacting directly with the the Showman himself.
The first question
The first question he asked me was whether I would do a film where I will have to pick a character for myself. I was like, sure, why not! 
I was just awestruck when I met Subhash Ghai for the first time. He made me feel really confident about myself and during the meeting I was sure that I wanted to debut on the big screen with Kaanchi."
Woh Bacchan hai..aur hum Bacche hai.” :
“You don’t necessarily need a role model rather you have to become a role model yourself. If I follow someone I will be impersonating that guy. What you need to do is learn from your seniors not mimic them. I admire a lot of actors in the industry especially Rishi Uncle and the superstar Amitabh Bachchan. Woh Bacchan hai..aur hum Bacche hai.”

The film stars Kartik Aryan and newcomer Mishti in lead roles with Rishi Kapoor and Mithun Chakraborty in important supporting roles. The music of the film is by Ismail Darbar and the duo Salim and Suleiman.

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।