सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Kalicharan: The film that made Subhash Ghai the Showman






Subhash Ghai started his career in Hindi cinema as an actor with small roles in six films. He then decided to try his hand at making films. Kalicharan was his first attempt. The film's script was rejected by six producers till it finally came to N. N. Sippy. When Subhash Ghai narrated the story to Mr. Sippy, he liked it and invited Subhash Ghai to a party. There he took Subhash Ghai by surprise by introducing Ghai to everyone as the director of his new film Kalicharan. Mr Sippy was impressed by the way Subhash Ghai narrated the film to him and saw the first shades of the showman in Mr. Ghai. 


Shatrughan Sinha and Reena Roy


Shatrughan Sinha and Reena Roy were selected to the play the lead characters. Both of them were looking for that first elusive hit. The film went on to become a blockbuster and catapulted Shatrughan Sinha and Reena Roy to stardom. Shatrughan Singha and Reena Roy became a leading pair and worked together on more than 15 films.


"Saara shehar mujhe loin ke naame se jaanta hai",
 
 Ajit gained immortality with the line "Saara shehar mujhe loin ke naame se jaanta hai", which is emulated by Bollywood fans even today.

and ‘Showman’. Subhash
And Ghai had finally found his true calling. He was The Showman. The distinct one-liners, sharp cinematography, a well crafted narrative and rich themes became the strong points of Subhash Ghai films and earned him the title of the ‘Showman’.

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।