सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Realistic Movie Review: ‘घनचक्कर’'

·                            
                        Release Date:  28Jun 28, 2013
                                 Star Cast:  इमरान हाशमी, विद्या बालन
                             Director:  राजकुमार गुप्ता
                   Producer:  यूटीवी मोशन पिक्चर्स
 Music Director: अमित त्रिवेदी
Genre:  कॉमेडी
Rating : * * 1/2



युवा फिल्‍म निर्देशक राजकुमार गुप्‍ता के निर्देशन में बनी और विद्या बालन और इमरान हाशमी के अभिनय से सजीं फिल्‍म ‘घनचक्कर’' फ्राइडे को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है । यूटीवी मोशन पिक्‍चर के बैनर तले बनी इस फिल्‍म की सबसे खास बात इसकी स्‍टोरी का कॉमेडी थ्रिलर होना है । फिल्‍म निर्देशक राजकुमार गुप्‍ता इससे पहले आमिर और नो वन किल्‍ड जेसिका जैसी थ्रिलर फिल्‍म बना चुके है और कॉमेडी फिल्‍म में पहली बार हाथ आजमा रहे हैं । विद्या बालन और इमरान हाशमी ने  भी अभी तक कॉमेडी फिल्‍म से दूर ही रहे है , ऐसे में इस फिल्‍म को दर्शको को क्‍या रिस्‍पांस मिलता है य‍ह देखने वाली बात होगी। लेकिन विद्या बालन को लोग आज भी बोल्‍ड और हॉट अंदाज में देखना पसंद करते है, ऐसे में उनके कॉमिक और नोक झोंक करती बीवी के किरदार को देखना दर्शकों के लिए नया अनुभव होगा ।


इस फिल्‍म को पूरे भारत में मिली जुली सफलता मिलेगी लेकिन व्‍यापार के लिहाज से इसे महाराष्‍ट्र, गुजरात में सौ फीसदी तथा कर्नाटक, बंगाल में 70 फीसदी सफलता मिलेगी । यूपी में इसे औसत सफलता से संतोष करना पड़ेगा । देश के बाकी हिस्‍सों में इस फिल्‍म यह फिल्‍म संभावना कम ही है।  इस तरह से पहले वीकएंड के बाद इस फिल्‍म की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि इसे फिल्‍म समीक्षकों और दर्शको का क्‍या रिस्‍पांस मिलता है।  


इस फिल्‍म को महाराष्‍ट्र  और गुजरात में बेहतरीन शुरुआत मिलेगी और लोग इसे पसंद करेंगे । इसके साथ ही बंगाल में भी लोग इसे देखने जाएगें इसका सबसे बड़ा कारण विद्या बालन का वहां लोकप्रिय होना है। सबसे खास बात यह है कि कहानी के बाद विद्या बालन की लोकप्रियता बंगाल में बढी है ।

महाराष्‍ट्र में इसे मल्‍टीप्‍लेक्‍स सिनेमा के दर्शक पसंद करेंगे और इसका सबसे बड़ा कारण फिल्‍म का संगीत और फिल्‍म में विद्या बालन और इमरान हाशमी का होना है । अमित  त्रिवेदी के संगीत को लोगों ने पसंद किया है ओए घनचक्‍कर बाबू , और रिचा शर्मा की आवाज में लेजी लेज संइयां को सुनना लोग पसंद कर रहे हैं । महाराष्‍ट में सबसे अधिक लोगों ने इन गानों को पसंद किया है।


कर्नाटक, आंध्रप्रदेश में इसे औसत सफलता मिलेगी । यूपी में भी फिल्‍म को औसत सफलता मिलने की संभावना है लेकिन कुल व्‍यापार के मामले में यह महाराष्‍ट से थोड़ी कम होगी । उप्र में इमरान हाशमी की फिल्‍मों को पसंद करने वाला एक दर्शक वर्ग है , वह बड़ी संख्‍या में तो नहीं लेकिन इस फिल्‍म को इमरान और बालन की जोड़ी के चलते आएगा । यहां सिंगल स्‍क्रीन सिनेमा में भी दर्शक इस फिल्‍म को मिल सकते है लेकिन यह संख्‍या बहुत ज्‍यादा होगी इसकी संभावना कम ही है ।महाराष्‍ट और गुजरात की तुलना में फिल्‍म की सफलता की दर उप्र में कम होगी । फिल्‍म की यूएसपी उसका गीत संगीत और कॉमेडी का डोज है जो 25 से 35 साल के युवाओं के बीच अधिक पसंद किए जा रहे है, और यही वह सबसे खास बात है जिसके चलते फिल्‍म को दर्शक पसंद करेंगे ।

निर्देशक राजकुमार गुप्‍ता इससे पहले दो लगातार हिट फिल्‍म बना चुके है और विद्या बालन भी हिट की गारंटी माने जाने लगी है ,इमरान हाशमी का अपना अलग दर्शक वर्ग है लेकिन कॉमेडी के उनके इस नए अंदाज को बॉक्‍सऑफिस पर कैसी सफलता मिलती है यह देखने वाली बात होगी । क्‍या दर्शकों को युवा फिल्‍म निर्देशक राजकुमार गुप्‍ता का कॉमेडी के साथ थ्रिलर का कॉकेटल पसंद आएगा यह भी एक बड़ा यक्ष प्रश्‍न है
? फिल्‍म अगर सफल होती है तो बालन को बॉलीवुड का रियल लेडी शाहरूख खान कहना उचित होगा । फिल्‍म रिलीज से पहले तो ऐसा लगता है कि महाराष्‍ट कर्नाटक बंगाल, उप्र और गुजरात में फिल्‍म को दर्शक पसंद करेंगे । अगर आपको इस फिल्‍म के गीत पसंद है और सेचुएशनल कॉमेडी के साथ थ्रिलर का आंनद लेना है तो यह फिल्‍म देखने आप भी जा सकते हैं । 

एक और बात इस फिल्‍म को विशेष बनाती है वह है परवेज शेख द्वारा लिखी गई कहानी जिसने राजकुमार गुप्‍ता को कॉमेडी फिल्‍म बनाने के लिए प्रेरित किया। इसलिए इस फिल्‍म के बारे में यह कहा जा जा सकता है कि कॉमेडी का डोज अगर आपको पसंद आता है तो यह फिल्‍म देखने आप जा सकते है और जब बात मियां बीवीं की नोक झोंक से निकले तो फिर क्‍या कहना । ऐसे में इस बात का दावा तो किया ही जा सकता है कि  यह फिल्‍म सबसे अधिक विवाहित जोड़ों को पसंद आ सकती है ।  
Rajesh Yadav 

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * 

रियलिस्टिक फिल्‍म रिव्‍यू क्‍यों !


इसे हम रियलिस्टिक फिल्‍म रिव्‍यू इसलिए कह रहे है क्‍योंकि इसका आधार लोगों की वह पसंद है जिसे अपने टेक्‍नोलॉजी माइंडमेप के आधार पर निकाला है । आने वाले समय में टेक्‍नोलॉजी के अध्‍ययन के आधार पर यह जानना ज्‍यादा आसान हो जाएगा कि आखिर लोग किस फिल्‍म को पसंद करेंगे और उसके आधार क्‍या होंगे । किसी भी फिल्‍म को पहले वीकएंड में कैसी सफलता मिलेगी इस बात को बताना पहले से ज्‍यादा आसान हो जाएगा और आज मैं फिल्‍म घनचक्‍कर का यह रियलिस्टि फिल्‍म रिव्‍य इसी आधार पर दे रहा हूं जो अपने आप में फिल्‍म समीक्षा का नया स्‍टाइल है । मुझे पूरी उम्‍मीद है कि  इस तरह की फिल्‍म समीक्षा में समीक्षक के विचार और आकलन इसलिए ज्‍यादा रियलिस्टि साबित होंगे क्‍योंकि यह पूरी तरह से लोगों की पसंद और समीक्षक के अपनी पसंद का एक मिला जुला रूप है ।
* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * 

टिप्पणियां

Noopur ने कहा…
aap toh bahut accha likhte hain
Rohit Shrivastava ने कहा…
शानदार रिव्यू ..

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।