सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

A Mother’s Day letter मां के नाम बेटी का खत ......


जिंदगी की किताब  (लास्टपेज3) पर एक विशेष गेस्‍ट पोस्‍ट में लवलीन धालीवाल द्वारा मां को लिखा गया एक खत । 



प्यारी मां, 

मदर्स डे की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। थैक्यू... हमेशा मेरे साथ होने के लिए और कभी न बदलने के लिए। तुमसे दूर हुए बहुत साल हो गए। तुम तो शादी के बाद अपनी मां को छोड़कर आई होगी, पर मुझे तो पढ़ाई के लिए बहुत छोटी उम्र में ही तुमसे दूर जाना पड़ा। पर मां, मैं तुमसे दूर होकर भी कभी तुमसे अलग नहीं हुई। इतने बरस बाद भी मेरा हर पल कहीं न कहीं तुमसे ही बंधा होता है। कभी सोते, कभी जागते... जब किसी कपड़े की तुरपाई उधड़ जाए या रोटी पकाते हुए हाथ जल जाए, तो   तु म्हीं याद आती हो। मेरी टेड़ी-मेढ़ी रोटियों को तुम कितने शौक से खाती थी ताकि मैं प्रोत्साहित हो सकूं। 

कई बार जब शीशे में अपने रूखे-सूखे बालों को देखती हूं, तो सोचती हूं बचपन में तुम किस तरह इन्हें संभाल कर रखती थी। तब मैं बहुत छोटी थी। आज बड़ी हो गई हूं। तुम फिर भी मेरे साथ हो। मेरे अनुभवों को सुनते हुए, जब दिल दुखी हो तो दूर बैठे ही उसे समझते हुए... तुम सदा मेरे साथ रहोगी। मैं बहुत खुश हूं कि कुछ चीजें कभी नहीं बदलती। मा.. पिछली बार मायके से तुम्‍हारे हाथ का कढ़ी जो शॉल और साड़ी ले आई थी। बीती सर्द रातों में वो शॉल तु हारी बहुत गर्माहट देता रहा और साड़ी बारिश की पहली बूंदों की तरह ठंडक दे जाती है। तुम दूर हो तो क्या हुआ, ऐसे ही तुम्‍हारे कपड़ों में तुमको जी लेती हूं।

तुम्‍ हें याद है, पिछले साल मदर्स डे पर जब तुम्‍हें फोन किया तो कितनी रुआंसी हो गई थी मैं। दरअसल, मां बनने के बाद ही तुम्‍हारी कई बातों का मतलब समझ में आया था। कुछ दिन पहले थी तो मां बनी थी मैं। जान गई थी कि कैसे तू मेरी बातों को बिना कहे ही समझ जाती थी। तेरी छोटी-छोटी चीजों को लेकर चिंता, जिस पर हम कई बार खींज भी जाते थे, अब वो चिंता भी समझ में आने लगी थी। कभी दो कौर खाकर ही हमारा उठ जाना तुम्हें इतना परेशान क्यों कर जाता था?  तुम्‍हें और करीब से जाना जब खुद मां बन पाई। 

और भी बहुत कुछ कहना चाहती हूं तुमसे पर शब्द कहां से लाऊं। शब्दों में कहां बांध सकते हैं हम अपने इस रिश्ते को। खुद मां बन गई हूं पर आज भी तेरी ममता की गर्मी कई बार मुझे रुलाती है। जब भी अपने बच्चों के मुंह से मां शब्द सुनती हूं तो याद तुम्‍हारी आती है। इनकी तोतली बातों में अक्सर अपने बचपन को चुनती हूं। ये दोनों बहुत मासूम है, बस थोड़े-से जिद्दी हैं। दोनों जुड़वां बेटे हैं। पर कई बार सोचती हूं कि एक बेटी होती तो शायद खुदको कभी जी पाती। वो नानी कहती थी ना, बेटियों की मां कभी मरती नहीं। हमेशा जिंदा रहती है अपनी बेटियों में। पर मां मैं बहुत-बहुत खुश हूं कि कुछ चीजें कभी नहीं बदलती। जैसे कि तुम... जो हमेशा मेरे साथ रहोगी।

तुम्‍हारी बेटी 
लवू

फोटो:लवलीन धालीवाल अपने दोनों बच्‍चों के साथ

टिप्पणियां

lovleen ने कहा…
thanx ...sir maa ki mithi yaadoo ke sath phir ek baar jodane ke liye

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।