सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘यार आमिर इतना रुलाएंगे क्या पब्लिक को ?’







राजेश यादव
***************


मनोरंजन क्या है? वह जो चेहरे पर दो इंच मुस्कान ले आए, या वो जो रुला जाए.या कुछ और? इस प्रश्न पर गौर करने से पहले स्टॉर प्लस पर जल्द शुरु हो रहे सत्यमेव जयते के प्रोमों में आमिर खान क्या कहते हैं जरा इसे देखें:

सवाल : ‘यार आमिर इतना रुलाएंगे क्या पब्लिक को ?’

आमिर खान : ‘उल्टा बोल रहा है तू...रोने दे पब्लिक को , गुस्सा आना चाहिए। इंटरटेंमेंट का मतलब ये थोड़ी कि बस हंसाते रहो,दिल पर लगनी चाहिए..दिल पर लगेगी ना तो ही बात बनेंगी..।’

जी हां बड़े परदे पर अपना जादू जगाने के बाद ,आमिर खान एक अलग रंग में ‘सत्यमेव जयते’ में दर्शको के सामने कुछ ऐसी बातों के साथ रु-ब-रु होने जा रहे हैं जो अपने आप में जुदा है। ‘सत्यमेव जयते’में कुछ ऐसा है जो आपके दिल को छू जाएगा।  आजकल इतने टीवी चैनल है, मीडिया का शोर-शराबा है, हर मिनट में तो टीवी पर कुछ नया आ ही जाता है लेकिन यह भी सच है कि देश में घट रही घटनाओं से हम जितनी तेजी से अवगत होते हैं उतनी तेजी से उसे भूल भी जाते है..‘सत्यमेव जयते’ के दूसरे प्रोमो में आमिर खान जब यह कहते हैं कि ‘आंखो से मत देखो.दिल से देखकर देखो ..।’

अब दिल को लेकर तो बहुत कुछ कहा जाता है, कुछ के लिए बच्च, तो कुछ के लिए ये दिल उतना ही सच्च है, कभी छलिया तो कभी दिल दीवाना हो जाता है..कभी देशराग से मातृ -भूमि के लिए उतावला हो यही दिल जान की बाजी लगा देता है.यह रोता है, हंसता है, गुनगुनाता है, गुस्से में उबल पड़ता है..। ‘सत्यमेव जयते’ हिंदुस्तान के दिल में छुपे जज्बातों की एक ऐसी दास्तान है जो आप से सीधा सवाल करेगी.बात जो सीधे आपके दिल पर असर करेगी.।

बात जो दिल को छू जाए, आंखो को नम कर जाए..गला दर्द से भर जाए जब ऐसी कुछ बात होती है तो उसमें भी मनोरंजन होता है.इस देश में ऐसी बहुत सी बातें हैं, ऐसी बहुत सी कहानियां है जो आपके दिल को छू सकती हैं..आमिर खान ‘सत्यमेव जयते’..में कुछ ऐसी ही कहानियों से दर्शकों को रू-ब-रु कराने जा रहे हैं। मनोरंजन केवल हास्य में नहीं होता वह करुण रस में भी होता है..शेक्सपियर के दुखांत नाटकों  में भी एक अलग किस्म का मनोरंजन ही तो है.. इसलिए  आमिर खान की इस बात से सहमत हुआ जा सकता है कि कुछ ऐसा दिखाओ जो दर्शक के दिल को छू जाए।  सच  कितना भी कड़वा क्यों ना हो उसे देखने और समझने की जरूरत है.सच  आंखो से नहीं दिल से देखो और कहो..हां यार कुछ तो बात है ..।

हिन्दी साहित्य में 9 रसों का जिक्र किया गया है..इसलिए कोई भी रचना , फिल्म धारावाहिक या कोई अन्य कार्यक्रम इन 9 रसों में से किसी भी एक रस में ऐसा प्रभाव पैदा कर दे जो पाठक या दर्शक के दिल को छू जाए और लंबे समय तक याद रहे वास्तविक मनोरंजन होता है। वैसे मनोरंजन हर किसी के लिए अलग मायने रखता है आप एक हास्य फिल्म देखकर भी खुश हो लेते हैं जिसका प्रभाव सिनेमाहॉल के अंदर बहुत तात्कालिक होता है वहीं आप दूसरी तरफ थ्री-इडियट् जैसी फिल्म देखकर भी मनोरंजन का अनुभव करते हैं जिसमें एक संदेश छुपा होता है।

खैर देश के हर हिस्से से चुनकर आमिर खान कुछ मोती लेकर आए है जो अपनी कहानी से , अपनी बातों से आपको हाले दिल..कहेंगे सुनेंगे..बात से बात बनेगीं और आप कहेंगे ‘सत्यमेव जयते’। बापू ने भी तो कहा था सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं..तो आइए मनोरंजन के एक नए दौर पर स्टॉर प्लस पर शुरु हो रहे ‘सत्यमेव जयते’ के साथ चले.. क्योंकि इस देश में कुछ लोग पारंपरिक थाली में खाते हैं...कुछ छुरी और कांटे से खाते हैं.  कुछ ऐसे भी हैं जो आधे पेट रहकर जिंदगी काट लेते हैं ..इस देश में डिनर टेबल सबके भाग्य में अभी कहां..? फिर भी देश से ऐसे ऐसे हीरो निकल रहे हैं जिनको देखकर आप कहेंगे ‘सत्यमेव जयते’ क्योंकि यह हर जिंदगी से टकराऐगा।



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।