सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सचिन का सपना पूरा हुआ ,ऑनलाइन मीडिया सचिनमय हुआ


एक चर्चित स्लोगन सुनिए क्रिकेट इज मॉय गेम एंड तेंदुलकर इज मॉय गॉड। जीं हो जब सचिन खेलते हैं तो बाकी बातें क्रिकेट के प्रशसंको के लिए बेमानी हो जाती है। अब आज ही देखिए आज जब देश का बजट  पेश हुआ है और दूसरी खबर है कि सचिन ने क्रिकेट के संसार में शतकों का शतक पूरा कर लिया है।

 इन दो खबरों पर एक ऑनलाइन वेबसाइट ने सर्वे करते हुए प्रश्न किया कि आप की नजर में सबसे बड़ी खबर कौन सी है?

63फीसदी से अधिक लोगों ने कहा कि सचिन का शतक सबसे आज की सबसे बड़ी खबर है जबकि  मात्र 25 फीसदी लोगों ने कहा कि बजट बड़ी खबर है।12 फीसदी ऐसे लोग थे जो दोनों को बराबर रखा। एक ऑनलाइन मीडिया कंपनी के संपादक ने ट्विट किया कि कल सुबह आने वाले अखबारों के पेज वन पर काम करने वालों के लिए परीक्षा की घड़ी है कि वे सचिन के महाशतक, देश के बजट और रेलवे विवाद को किस तरह से स्थान दें..।

दरअसल सचिन के बिना क्रिकेट की दूनिया अधूरी मालूम पड़ती है और हो भी क्यों ना खुद सचिन ने भी कहा है कि वह क्रिकेट के बिना जिंदगी के बारे में सोचकर ही डर जाते हैं।  दरअसल पिछले दो दशकों में सचिन ने क्रिकेट को जिस तरह से जिया है वह क्रिकेट में अतुलनीय है। आज शतक पूरा होने के बाद भी सचिन ने कहा भी खेल का मजा लीजिए और सपने देखना मत छोड़िए.। सचिन की सफलता में उनके इस सपने और खेल को जिंदगी से बढ़कर मानने का जूनून ही तो है कि सचिन ने आज वह कर दिखाया जो क्रिकेट में पहले कभी हुआ नहीं था। उनके बारे में कभी डॉन ब्रैडमेन ने कहा था कि  उसमें मैं अपनी झलक देखता हूं.।








सचिन के इस महाशतक को हर क्रिकेटप्रेमी को इंतजार था.उनको भी जो सचिन के आलोचक रहे हैं। खैर आज सचिन के शतक पर ऑनलाइन संसार में प्रधानमंत्री के ट्विट को भी लोगों ने बेहद पसंद किया.यह भी सचिन का कमाल ही माना जा सकता है कि महगाई बढ़ाने वाले सरकार के बजट के बावजूद पीएम द्वारा सचिन को दी गई बधाई को क्रिकेट के प्रशंसकों ने फेवरेट और रिट्वीट किया। अन्य वेबसाइटों ने इसे कुछ इस अंदाज में प्रस्तुत किया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।