सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘वॉय दिस कोलावरी डी’...जिसने सुना झूम उठा


इस गाने में कोला सा नशा है और चाहे आईआईटी कैम्पस का युवा हो चाइना का कोई संगीत प्रेमी हर कोई तमिल फिल्म ‘३’ के गीत ‘वॉय दिस कोलावरी डी’...को सुनना और गुनगुनाना पंसद कर रहा है। तमिल और अंग्रेजी शब्दों के मेल से बने इस तंग्लिश गीत को 16 नवंबर को यू-ट्यूब पर अपलोड किया गया था और इसे अभी तक 20 लाख से अधिक लोग सुन चुके हैं। यह गीत इंटरनेट पर वायरल बन चुका है , चाहे यू-ट्यूब हो , ट्विटर हो या फेसबुक सभी जगहों पर लोग इस गीत की चर्चा कर रहे हैं। दक्षिण भारत में तो रेडियो पर इस गीत को सुनने के लिए इतनी डिमांड देखकर आरजे भी हैरान है और ऐसी ही डिमांड अन्य मेट्रो शहरों में देखी जा रही हैं।

यह तमिल फिल्म ‘3’ का गीत है और इस फिल्म की निर्देशक ऐश्वर्या धानुष है। तमिल भाषा की यह फिल्म 2012 में रिलीज होगी। इस फिल्म में अभिनेता धानुष के साथ श्रुति हसन ने भी अभिनय किया है। वॉय दिस कोलावरी डी रीजनल सिनेमा का एक ऐसा गीत बन गया है जिसे भारत सहित विश्व के अन्य भागों में लोग सुनना और देखना पंसद कर रहे है । युवा संगीतकार अनिरुद्ध रविचंदर ने इस गीत को अपने संगीत से सजाया है।

महान अभिनेता अमिताभ बच्चन ने भी इस गीत को सुनने के बाद फिल्म की निर्देशक और रजनीकांत की बेटी ऐश्वर्या और धानुष को बधाई दे चुके हैं। वैसे ऐसे लोगों भी है जो जिनका कहना है कि गीत के बोल का कोई सार्थक मतलब नहीं निकल रहे हैं और उसका कोई सेंस नहीं निकल रहा है लेकिन इस गीत को सुनना और देखने का अनुभव शानदार है।

सिंपल बीट पर सोप सांग फॉर सोप बॉयज

तमिल और अंग्रेजी शब्दों के मेल से बने इस तंग्लिश गाने को धानुष ने एक नए कांसेप्ट के साथ बनाया है। आम आदमी जिस तरह से सॉरी.कम गो जैसे शब्दो का प्रयोग अपनी जिंदगी में करता है उसी तरह से इस गीत को सिंपल बीट पर बनाया गया है।

कैसे बना यह गीत

फिल्म निर्देशक ऐश्वर्या धानुष ने पहले इस तरह के किसी गीत की योजन अपनी इस फिल्म के लिए नहीं बनाई थी लेकिन जब वे धानुष को फिल्म के कुछ सीन सुना रही थी तो धानुष वॉय दिस कोलावरी कोलावरी कोलावरी डी..गुनगुनाने लगे। ऐश्वर्या फिल्म में एक ऐसा गीत रखना चाहती थी जो प्रेम में असफल हुए प्रेमी की मनोदशा को बताने के साथ दिल को छू लेने वाला हो। धानुष के इस गीत को सुनने के बाद उन्होंने फिल्म में इस गीत को रखने का मन बनाया और उनके कहने के बाद अनिरूद्ध रविचंदर ने इस गीत को कंपोज किया।


गाने के बोल और धुन कमाल के है और इसे जिस मस्ती के अंदाज में गाया गया है वह कमाल का है। धानुष ने इसे जितना खूबसूरत लिखा है उतना ही कमाल के अंदाज में गाया भी है।

ऑनलाइल मार्केटिंग के लिए बेहतरीन उदाहारण

तमिल फिल्म का यह गीत जिस तरह से पूरे विश्व संगीत प्रेमियों की पंसद बन रहा है और इंटरनेट पर जितनी तेज गति से इस गीत का वीडियो वायरल बना है उसे देखते हुए यह ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए एक क्लासिक केस स्टडी बन सकता है। महिन्द्रा कंपनी के सीईओ आनंद महिन्द्रा इस गीत से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने इस गीत के बारे में ट्विट करते हुए इसे कोलावायरल घोषित कर दिया।

कोलावरी : शूप सांग..सोप बॉयज..शोव्ड मी

गाने में कोलावरी शब्द आज के आधुनिक सोप बॉयज के टूटे हुए दिल की तड़प को बताता है। आज का यह आधुनिक देवदास जिसे धानुष ने सोप बॉयज कहा है उसकी तड़प को बताने का अल्हण और मस्ताना प्रयास है। सोप बॉयज अधूरे प्रेम की तड़प कोलावरी कोलावरी कोलावरी डी गीत से अभिव्यक्त करता है।

10 हजार से अधिक प्रतिक्रिया,30 हजार से अधिक पंसद

गाना सुनने के बाद इंटरनेट पर सौम्या पूछती है ‘कोई ये तो बताओ कोलावरी क्या है? लड़की का नाम है क्या?’ इस गीत को सुनने के बाद शोभित शर्मा अपने संदेश में लिखते हैं कि कोलाई मतलब मर्डर और वेरी का अर्थ अर्ज होता है तो कोलावरी का मतलब किसी को खून करने की इच्छा का होना।


इस गीत के आधिकारिक वीडियो को यू-ट्यूब पर अभी तक 20 लाख से अधिक लोग देख चुके है और 10 हजार से अधिक प्रतिक्रिया मिल चुकी है। इंटरनेट पर यह गीत 18 से 34 साल के आयुवर्ग के बीच बहुत अधिक लोकप्रिय है। इस गीत को

विश्व के अन्य भागों के साथ चाइना में जिस तरह से पसंद किया गया है वह भी आश्चर्य का विषय है । थाइलैंड का एक युवक गाना सुनने के बाद लिखता है ‘ फुटबाल : मैनचेस्टर यूनाइटेड , सिनेमा : कोलावरी यूनाइटेड’..इन शब्दों को पढ़ने और फिल्म 3 की कोलावरी डी गीत को सुनने के बाद दिल बस यही कहता है संगीत की कोई सरहद नहीं होती..ये तो बस दिल पर छा जाता है।



राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।