सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रा वन भारत में पहले दिन 15 करोड़




किंग खान की बहुचर्चित फिल्म सुपर हीरों फिल्म रा वन ने पहले दिन 15.50से १६ करोड़ के बीच पूरे भारत में नेट कलेक्शन किया है। ओपनिंग डे की कमाई इससे अधिक हो सकती थी लेकिन दिवाली पूजा के चलते यह थोड़ा प्रभावित हुई है। फिल्म समीक्षक कोमल नाहटा के अनुसार दिवाली पर अब तक जितनी फिल्मी रिलीज हुई है उसके ओपनिंग डे की तुलना करने पर यह फिल्म अन्य सारी फिल्मों पर भारी पड़ती है। लेकिन ओवरआल जब आप तुलना करते हो तो यह फिल्म बॉडीगार्ड के २१ करोड़ के रिकार्ड को धवस्त करने में कामयाब नहीं हो सकी है।
फिल्म के वास्तविक सफलता ओवरसीज मार्केट पर टिकी हुई है और यह देखने वाली बात होगी की वहां से फिल्म कितनी कमाई करती है। भारत में दर्शकों ने फिल्म को पसंद किया है और लोगों ने कहा है कि फिल्म में यूं तो नया कुछ खास नहीं है लेकिन उन्होंने अब तक जितने सुपर हीरो देखें हैं और उनका जो ड्रेस रही है उस मामलें में जी वन की ड्रेस शानदार है और कूल है। स्टाइल के मामले में रा वन अन्य सुपर हीरो पर भारी नजर आता है।


रा वन को देखने के बाद इस बात की बहस जोर पकड़ रही है कि क्या है हालीवुड के वंडर फिल्मों का बॉलीवुड का अनसर है? इस सवाल के जवाब में टैक् नॉलाजी के जानकारों की मिली जुली प्रतिक्रिया आ रही है कुछ ने फिल्म को शानदार बताया है और बॉलीवुड के लिहाज से रोबोट के बाद एक शानदार और साइंस फिक्शन सिनेमा के लिहाज से बेहतर फिल्म मो माना है लेकिन हॉलीवुड की फिल्मों से थोड़ा कमजोर माना गया है।

फिल्म देखने के बाद रा वन पर मेरी अपनी सोच:
रा.वन में मनोरंजन का शानदार पुट दिया गया है खासकर टीन एज जनरेशन और शाहरुख के फैन को यह फिल्म पसंद आएगी। रा.वन को आप सांइस फिक्शन पर बनीं कुछ बेहतरीन फिल्मों का कॉकटेल कह सकते हो जिसमें एंकान के गाए गीत छम्मकछल्लो आयटम नंबर का तड़का बेहतरीन अंदाज में लगाया गया हैं। किंग खान अपने नए अवतार जी वन की भूमिका में शानदार नजर आए हैं। फिल्म में आपको यूं तो नया कुछ खास देखने को नहीं मिलेगा लेकिन स्पेशल इफेक्ट शानदार है। भावनात्मक वैल्यू के मामलें में फिल्म थोड़ी कमजोर हैं और यहां निर्देशक अनुभव सिन्हा कमजोर नजर आए है। मेगा बजट की इस फिल्म की सफलता टीनएज जनरेशन और शाहरुख के क्रेजी फैंस की उम्मीद पर टिकी हैं। करीना अपने किरदार के लिहाज से बेहतर नजर आई हैं। फिल्म में लिसोफर के चरित्र में अरमान वर्मा बेहतरीन नज़र आये हैं और यह रा।वन और जी.वन की टक्कर का हैं और इसका क्रेज किशोर पीढ़ी में गजब का रहेगा।


राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।