सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हैरी पॉटर : एक कहानी, 7 किताबें ,8 फिल्मों का जादू



जे. के. रोलिंग के उपन्यास पर आधारित हैरी पॉटर एंड द डेथली हैलोज पार्ट 2 ने विदेशों में पहले दिन 4 करोड़ 36 लाख डॉलर (195 करोड़ रुपए) कमाकर बॉक्स ऑफिस पर अब तक के सारे रिकार्ड तोड़ दिए है और साथ ही अपने पहले शो में ही कमाई का एक नया रिकार्ड भी बना दिया है। भारत में भी इसे पहले दिन जोरदार समर्थन मिला है। आईए जानते हैं हैरी पॉटर की शुरुआत और उसकी अब तक की सफलता पर कुछ खास बातें..

जी हां यह किसी जादू से कम नहीं है कम से कम उन हजारों करोड़ो लोगों के लिए जिन्होंने हैरी पॉटर को देखा, पढ़ा और हैरी के जादू के सम्मोहन से दो चार हुए हैं। यह जानना बेहद रोमांचक है कि किस तरह जे. के. रोलिंग के मन में हैरी पॉटर लिखने का विचार आया और कैसे उनकी एक के बाद एक किताबें उस एक लंबी कहानी पर आती गई जो हैरी की जिंदगी पर आधारित थी। जरा आप उस लेखन के जादू को देखिए जिसको पढ़ने के लिए एक बड़ा समुदाय जिसमें किशोर वय पीढ़ी के साथ बड़े लोग भी शामिल है।


एक कहानी पर सात किताबें लिखना और करोड़ों पाठकों तक सफलता से पहुंचना किसी भी रचनाकार के लिए बेहद गर्व की बात है। हैरी दरअसल एक सम्मोहन बन गया और यह सम्मोहन किताबों के संसार से निकलकर जब बॉक्स ऑफिस पर चला तो हर कोई आश्चर्य में थ , कमाल फिर वहीं एक कहानी थी जिस पर 7 किताबें लिखी गई और ८ फिल्मों का निमार्ण हुआ जिनकी कुल अवधी 17 घंटे 14 मिनट तक जाती हैं।


संसार के करोड़ों लोगों ने इन हैरी पॉटर की किताबी संसार में जो कि 4 हजार, 195 पेज पर,199 चेप्टर और10,090,739 शब्दों से लिखा गया और इस बात के लिए जे. के. रोलिंग की जितनी तारीफ की जाए कम है, क्योंकि रोलिंग ने किशोर वय पीढ़ी को जो खुशी दी वह उनके लिए उन करोड़ो रूपयों की रायल्टी से कहीं अधिक होगी जो उन्होंने हैरी पॉटर के लेखन से कमाई।



एक कहानी पर सात किताबों का आना जिनता रोमांचक है उससे कहीं ज्यादा रोमांचकारी बॉक्स ऑफिस पर हैरी पॉटर की फिल्मों का आना और सुपर डुपर हिट होना भी रहा है। हैरी का जादू चाहे किसी भी देश, किसी भी भाषा में गया हर जगह उसे प्यार मिला और लोग उससे सम्मोहन में खो गए। यह रोलिंग के उस विचार का कमाल था जो एक दिन अचानक ट्रेन यात्रा के दौरान उनको आया था और जिसकी आउट लाइन उन्होंने पहली बार ट्रेन में ही लिखी थी, बस फिर क्या पांच साल के समय अंतराल में पांच किताबों की आउट लाइन के साथ हैरी के जादू की शुरुआत हुई।



जेके रोलिंग ने हैरी पॉटर सीरिज की जब भी कोई नहीं किताब लांच की उसका समय अधिकत मध्य जुलाई के आस पास रखा हालांकि कुछ मध्य जून में भी पहली बार प्रकाशित हुई, और सभी की सभी पाठकों द्वारा खूब पसंद की गई। काले बालों वाले मासूम से पर तेज दिमाग के हैरी का सम्मोहन किताबों के संसार और बड़े परदे पर खूब चला। मैं बार -बार यही सोचता हूं यह सफलता आखिर है किसकी, क्या उस विचार की जो लेखिका जो को ट्रेन में आया या रोलिंग के लेखन की, या उस फिल्म निर्देशक की जिसने किताब के जादू को पहचाना और उसे परदे पर उतने ही शानदार अंदाज में प्रस्तुत किया, जो अपने आप में कमाल का बन पड़ा था और जिसने संसार को अपने सम्मोहन में जकड़ लिया।






हैरी का जादू किताबों से निकलकर बड़े परदे पर इस कदर चला कि फिल्मों की सफलता के रिकार्ड टूट गए, या यह सफलता उन करोड़ों किशोर वय पीढ़ी की है जिसने अपने बाल्यकाल में इतना शानदार लेखन पढ़ा और परदे पर देखा और एक ग्लोबल समुदाय के रूप में एक दूसरे से जुड़ गए। आखिर यह सफलता है किसकी..मुझे लगता है यहां हम बिना लाग लपेट के जे. के. रोलिंग का नाम लिखना चाहिए जिन्होंने अपने विचार को समय पर न केवल पाया बल्कि उस पर अमल भी किया।




1 एक कहानी 7 किताबें






4,195 पेज 1,090,






739 शब्द 199 चेप्टर




8 फिल्में






17घंटे 17 मिनट की पटकथा

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।