सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दबंगों के खिलाफ इंसाफ की जंग : नो वन किल्ड जेसिका


फिल्म समीक्षा : नो वन किल्ड जेसिका
बैनर : यूटीवी स्पॉट बॉय
निर्माता : रॉनी स्क्रूवाला
निर्देशक : राजकुमार गुप्ता
संगीत : अमित त्रिवेदी
कलाकार : रानी मुखर्जी, विद्या बालन
सेंसर सर्टिफिकेट :
रेटिंग 3
एक बड़े महानगर में घटित घटना का बड़ा सच, कानून की किताब में इंसाफ का तकाजा और आम आदमी की आवाज को उसके वास्तविक अंदाज में परदे पर दिखाने का साहसिक काम निर्देशक राजकुमार गुप्ता ने नो वन किल्ड जेसिका में कर दिखाया है। आमिर के बाद नो वन किल्ड जेसिका में एक बार फिर कैलेंडर में अकिंत अपने समय का सच खुलकर बड़े परदे पर दर्शक के सामने आता है। बॉलीवुड बदल रहा है और सच को दिखाने का जो नजरिया हमारे युवा निर्देशकों के पास है वह एक संभावना को दिखाता है। बेहतरीन पटकथा, उम्दा बैगग्राउंड म्यूजिक, विद्या बालन और रानी मुखर्जी के बेहतरीन अभिनय ने इस फिल्म की सबसे खास बात है।

मीडिया और दिल्ली की जनता ने जेसिका मर्डर केस में इंसाफ के लिए सबरीना के साथ जो पुकार लगाई उसे इस फिल्म में बेहतरीन अंदाज में दिखाया गया है। एक घटना जिसकी खबरें आप ने अखबारों में पढ़ी, टीवी पर देखी हो उसे नए अंदाज में इतनी खूबसूरती से बनाया गया है कि हर सीन आप से बात करता है और हर संवाद आप से कुछ कहता है। विद्या बालन के खामोश अभिनय में चेहरे पर आते भाव और बोलती आंखे एक सवाल करती है क्या हमारे देश वास्तव में जिंदगी इतनी सस्ती है? क्या जिंदगी की कीमत एक पैग से भी सस्ती है?

दक्षिण दिल्ली की एक हाईप्रोफाइल पार्टी में जेसिका (मायरा खान) को एक बड़े राजनेता का बेटा सिर्फ इसलिए गोली मार देता है क्योंकिकि उसको ड्रिंक का एक पैग नहीं मिलता। ३क्क् लोगों की इस हाईप्रोफाइल पार्टी में एक आदमी गवाही देने के लिए आगे नहीं आता। ऐसे में जेसिका की बहन सबरीना (विद्या बालन) इंसाफ के लिए कानून का सहारा लेती है लेकिन इंसाफ को दबाने के लिए रिपोर्ट बदल दी जाती है, गवाह खरीद लिए जाते है, कभी डर से तो कभी दौलत से और कानून की चौखट से अपराधी सबूत के अभाव में बरी हो जाता है। इस स्तब्ध खामोशी के बीच टीवी चैनल की पत्रकार मीरा गैटी (रानी मुखर्जी) अपने मुखर अंदाज में जिस तरह से पूरी घटना का पर्दाफास करती है वह बेजोड़ है और एक उम्मीद जगाता है। पत्रकार की जिस भूमिका को रानी ने जिया है वह बेहद बिंदास और रौबदार है , वह गालियां देने में भी नहीं हिचकती और एक पत्रकार के रूप में जो पैशन होना चाहिए वह मीरा के किरदार में निखर कर आता है।

अमित त्रिवेदी ने बेहतरीन बैगग्राउंड संगीत दिया है और उनकी तारीफ की जानी चाहिए। हिन्दी सिनेमा में बदलाव की बयार बह रही है और इस फिल्म की पटकथा इस बात का सबूत है। हालांकि कुछ गालियों और एक दो बोल्ड सीन के चलते फिल्म को ए सर्टिफिकेट दिया गया है। बोल्ड सीन से बचा जा सकता था फिर भी जेसिका के इंसाफ की लड़ाई जिस अंदाज में सबरीना के साथ मीडिया और जनता ने लड़ा है उसे देखने के लिए इस फिल्म को देखा जा सकता है।
राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।