सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दिल जीत ले गया रोबोट

फिल्म : रोबोट
निर्माता : कलानिधि मारन
निर्देशक : एस . शंकर
कलाकार : रजनीकांत, ऐश्वर्या रॉय, डैनी डेन्जोंगपा
संगीत : ए आर रहमान
संवाद : स्वानंद किरकरे
बैनर : सन पिक्चर्स
रेटिंग : ****

फिल्म निर्देशक एस शंकर की साइंस फिक्शन फिल्म रोबोट बॉक्स ऑफिस पर धूम मचाने की क्षमता रखती है और इसका जादू हर उम्र के दर्शक को लुभाने वाला है। दक्षिण भारत के सुपरस्टॉर रजनीकांत और बॉलीवुड अदाकार ऐश्वर्या राय के अभिनय से सजी इस फिल्म की पटकथा में मनोरंजन, रोमांच के साथ भावनात्मक प्यार का संगम नजर आता है। फिल्म की पटकथा, सवांद और बेहतरीन सिनेमैटोग्राफी कमाल की है जो इसे बेहतरीन सिनेमा की श्रेणी में खड़ी करती है।

यह फिल्म हॉलीवुड में बनने वाली फिल्मों को टक्कर देने का दम रखती है और इसे देखने के बाद ऐसा लगता है कि यह घरेलु मार्केट और ओवरसीज मार्केट दोनों ही जगहों पर सफल रहेगी। अब तक की सबसे महंगी फिल्म बताई जा रही यह फिल्म बॉक्स ऑफिस के कई रिकार्ड तोड़ दे तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी। जो काम एक समय थ्री इडियट ने किया था वैसा ही जादू दबंग ने दिखाया और अब रोबोट उससे भी बड़ा कमाल कर सकती है। सबसे खास बात जो दिखाई देती है वह तीनों की पटकथा और प्रस्तुतीकरण में अंतर का होना है।


फिल्म में वैज्ञानिक वशीकरण (रजनीकात) कड़ी मेहनत से एक ऐसा रोबोट तैयार करते है जो इंसान से १क्क् गुना ताकतवर होता है,वह इसे भारतीय सेना के लिए तैयार करते है। रोबोट को वह अपने जैसा लुक देते है जिसे उनकी प्रेमिका सना (ऐश्वर्या रॉय) बेहद पसंद करती है। रोबोट को लोग प्यार से चिट्टी पुकारते है और उसकी प्रोग्रामिंग कुछ इस तरह की है कि उसे जो कुछ भी कहा जाता है वह उसे पूरा कर देता है लेकिन उसमें इंसानों की तरह भावनात्मक सोच का अभाव रहता है। इसी का फायदा उठाकर प्रोफेसर बोहरा (डैनी डेन्जोंगपा ) उसे सेना में शामिल करने से इंकार कर देते है हालांकि वह ऐसा अपने फायदे के लिए करते है। इसके बाद प्रोफेसर वाशी रोबोट में कुछ इस तरह के बदलाव करते हैं कि वह इंसानों की तरह भावनात्मक आवेग को समझने लगता है। इसका परिणाम यह होता है कि वह प्रोफेसर वाशी की प्रेमिका सना को ही प्यार करने लगता है। इस बात को लेकर वाशी और रोबोट में विरोध हो जाता है और इसका फायदा प्रोफेसर बोहरा उठाते है। वह रोबोट की प्रोग्रामिंग में बदलाव कर उसमें बुरी शक्तियों का समावेश कर देते है परिणाम यह होता है कि रोबोट अपनी सेना बना लेता है। इसके बाद वाशी और रोबोट के बीच रोचक मुकाबला होता है और प्रोफेसर उसकी बुरी शक्तियों का अंत करने में सफल होते है। अंत में रोबोट अपनी असली पहचान को समझ लेता है और जिस भावनात्म संदेश के साथ फिल्म में अपना अंत करता है वह देखने लायक है।


फिल्म में स्पेशल इफेक्ट का फिल्माकंन बेहतरीन अंदाज में किया गया है जो बेहद प्रभावी बन पड़ा है। रजनीकांत का अभिनय शानदार है और फिल्म में प्रोफेसर, और रोबोट दोनों ही किरदारों में उनके अभिनय की छाप देखने को मिलती है। ऐश्वर्या राय मेडिकल छात्रा के रोल मेंखूबसूरत दिखी हैं और उनका रोल ठीक ठाक है , खासकर उन्होंने फिल्म में बेहतरीन डांस किया है।

फिल्म का संगीत बेहतरीन है लेकिन गानों की जिस मधुरता का इंतजार बॉलीवुड के दर्शको को रहता है उस मामलें में यह फिल्म थोड़ी कमजोर नजर आती है। डैनी का रोल संक्षिप्त लेकिन दमदार है। फिल्म में स्वानंद किरकरे ने संवाद लेखन में उम्दा योगदान दिया है। इस फिल्म में साइंस फिक्शन के रोमांच के साथ एक रोबोट का भावनात्म प्यार में डूबना सबसे खास बात है और इसे जितने खूबसूरत अंदाज में रजनीकांत ने परदे पर साकार किया है वह लाजवाब है।


यह फिल्म हर दर्शक वर्ग को पसंद आएगी और इसे परिवार के साथ देखा जा सकता है। बॉलीवुड की सबसे महंगी फिल्म कहीं जा रही रोबोट देखना एक रोचक अनुभव है और इसे जरूर देखा जाना चाहिए। निर्देशक एस शंकर ने रोबोट के द्वारा एक ऐसी फिल्म दर्शकों को दी है जो हॉलीवुड की फिल्मों की तरह ही बेहतरीन है और तकनीकी मामलें में भी शानदार है।

राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।