सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दबंग : शानदार अभिनय और लाजवाब संगीत


निर्देशक : अभिनव सिंह कश्यप
निर्माता : ढिलिन मेहता, अरबाज खान, मलाइका अरोरा
कलाकार : सलमान खान, सोनाक्षी सिन्हा, अरबाज़ खान, सोनू सूद, विनोद खन्ना, डिंपल कपाड़िया, महेश मांजरेकर,
बैनर : श्री अष्टविनायक सिनेविजन लि. और अरबाज़ खान प्रोडक्शन,
संगीत : साजि़द-वाजि़द, ललित-पंडित,
रेटिंग : *** १/२
सलमान खान और नवोदित सोनाक्षी सिन्हा के अभिनय से सजी फिल्म ‘दबंग’ मनोरंजन प्रधान फिल्म है। इस फिल्म से बॉलीवुड को अभिनव कश्यप के रूप में एक बेहतरीन फिल्म निर्देशक मिला है, जो बॉक्स ऑफिस के गणित को समझने में सक्षम है। फिल्म में सलमान की खास एक्शन स्टाइल है। उनके प्रशंसकों को यह फिल्म जरूर पसंद आएगी। उनका डांसिंग स्टाइल और एक्शन सीन दर्शकों को लुभाने में सक्षम हैं। साधारण पटकथा पर बेहद खूबसूरत गीतों से सजी इस फिल्म का अपना एक खास दर्शक वर्ग है। बॉक्स ऑफिस पर भी यह फिल्म अपना जादू दिखाने में सक्षम नजर आती है। खूबसूरत सोनाक्षी सिन्हा इस फिल्म से बेहद सधी हुई एक्टिंग के साथ बॉलीवुड में अपने अभिनय जीवन की शुरुआत करने में सफल रही हैं।


फिल्म में सलमान खान ने चुलबुल पांडे के रूप में ऐसे किरदार को जिया है, जो बेहद दबंग इंस्पेक्टर है। वह अपनी मां (डिंपल कपाड़िया) से बहुत प्यार करता है लेकिन सौतेले पिता विनोद खन्ना और भाई माखन सिंह (अरबाज खान) से उसकी नहीं बनती। लेकिन जब वह रोज़ा (सोनाक्षी सिन्हा )को देखता है तो उसे मोहब्बत हो जाती है। उधर स्थानीय नेता छेदी सिंह (सोनू सूद) चुलबुल पांडे से मतभेद रखता है।

वह अपनी चाल के द्वारा चुलबुल और माखन में मतभेद करा देता है। इसके बाद चुलबुल पांडे अपने खास दबंग अंदाज में सभी से निपटता है। सलमान ने इंस्पेक्टर के रोल में शानदार संवाद बोले हैं, वहीं उनका गेटअप भी जबरदस्त है। फिल्म में मलाइका अरोरा का आयटम नंबर ‘मुन्नी बदनाम हुई’ बॉक्स ऑफिस पर मनोरंजन का तड़का लगाने में सक्षम है।

फिल्म के अन्य गीतों में सलमान ने जो डांसिग स्टाइल दिखाया है वह लाजवाब है। फिल्म के गीतों में विविधता देखने को मिलती है एक तरफ ‘तेरे मस्त मस्त दो नैन’ जैसा मधुर गीत है जिसे राहत फतेह अली खान ने गाया है, तो दूसरी तरफ ‘हमको पीनी है’ जैसे गीत है। बेहतरीन संगीत के लिए साजि़द वाजि़द की जितनी तारीफ की जाए कम है। फिल्म में गीतों के बोल, लाजवाब संगीत और शानदार कोरियोग्राफी का अपना अलग ही अंदाज है। नवोदित सोनाक्षी सिन्हा को इस फिल्म में जो भी अवसर मिला है उसके हिसाब से वह प्रभावी और खूबसूरत नजर आई हैं।

सोनू सूद ने छेदी सिंह के रोल में उम्दा काम किया है, वहीं डिंपल कपाड़िया, महेश मांजरेकर, विनोद खन्ना ने अपनी पहचान के अनुसार बेहतर काम किया है। कुछ स्थानों पर मसालेदार भाषा का खुल कर प्रयोग किया गया है। यहां कुछ बातों पर बचा जा सकता था लेकिन बोतल का नशा और उसकी खुमारी का अंदाज जुदा होता है।

कुछ लोगों को कहानी साधारण लग सकती है लेकिन फिल्म शुरू से अंत तक दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने में पूरी तरह से सक्षम है। कुछ एक्शन सीन बेहद शानदार बन पड़े हंै और कुछ तो ऐसे हंै जिनको देखने के बाद विश्वास ही नहीं होता। लेकिन यहीं तो बॉलीवुड की मसाला फिल्मों की खास बात रहीं है।

बॉलीवुड में 8० के दशक में बनने वाली मारधाड़ से भरपूर फिल्मों की झलक दबंग में दिखाई देती है। फिल्म की कहानी जितनी साधारण है उससे कहीं उम्दा सलमान का अभिनय, फिल्म के एक्शन सीन और बेहतरीन गीत-संगीत के बल पर फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपर हिट होने में सक्षम है।

सिनेमा से जुड़ा एक खास दर्शक वर्ग भले ही फिल्म की कहानी को लेकर कुछ सवाल उठाए। वहीं सलमान के प्रशसंकों के लिए यह फिल्म ईद पर एक बेहतरीन तोहफा कहीं जा सकती है। ये फिल्म सलमान के अभिनय का कमाल है और उनके लाजवाब अभिनय के लिए फिल्म को देखा जा सकता है।






टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।