सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कमजोर कहानी, स्टाइलिश लुक


** 1/२ आयशा
निर्देशिका : राजश्री ओझा
निर्माता : अनिल कपूर, रिया कपूर, अजय बिजली,
कलाकार : सोनम कपूर, अभय देओल, इरा दुबे, अमृता पुरी, साइरस साहुकार, एम के रैना,
गीतकार : जावेद अख्तर
संगीत : अमित त्रिवेदी


फिल्म आयशा से बॉलीवुड में एक और महिला निर्देशिका राजश्री ओझा का आगमन हो गया है। जेन ऑस्टिन के उपन्यास एम्मा से प्रेरित होकर इस फिल्म की पटकथा लिखी गई है। फिल्म के पात्र आधुनिक युवा पीढ़ी की जीवन शैली को जीते हैं जिसमें प्यार के जज्बात तो हैं ही साथ ही युवा मन की उड़ान भी है। फिल्म की पटकथा कमजोर है लेकिन फिल्म से जुड़े कलाकारों के परिधान उनकी लाइफ स्टाइल सब बहुत हाई-फाई है। अगर कुछ कमजोर है तो फिल्म की पटकथा और उसकी रफ्तार। सोनम कपूर फिल्म में बेहद खूबसूरत लगी हैं लेकिन उनका अभिनय उतना प्रभावित नहीं करता जिसकी उम्मीद उनके प्रशंसकों को इस फिल्म से है। सांवरिया और आई हेट लव स्टोरिज में अपने अभिनय का जादू जगाने वाली सोनम कपूर का स्टाइल इस फिल्म में थोड़ा सा हटकर ही कहा जा सकता है।


फिल्म में आयशा कपूर (सोनम कपूर)एक ऐसी लड़की है जो दूसरों के मैच मेकर में रूची रखती है। वह बहनजी टाइप दिखने वाली लड़की शैफाली (अमृता पुरी) की लाइफ स्टाइल बदल देना चाहती है ताकि रणधीर (साइरस साहुकार) उसे पंसद कर ले। इधर रणधीर शैफाली को प्रपोज न कर आयशा को ही प्रपोज कर देता है। आयशा रणधीर से नाराज हो जाती है, दरअसल आयशा अपने दोस्त अजरुन (अभय देओल) से प्यार करती है लेकिन दोनों की सोच में अंतर होता है और वे एक दूसरे से अपने प्रेम का इजहार नहीं करते।


फिल्म का घटनाक्रम प्रेम की तलाश में यूं ही आगे बढ़ता है और अतत: शैफाली अपने सच्चे प्रेम को खुद खोज लेती है उसी तरह पिंकी आयशा की दोस्त रणधीर में अपने प्यार को खोज लेती है, इन प्रेम कहानियों के बीच आयशा भी अपनी जिंदगी की कहानी को आगे बढ़ाती है। फिल्म कहती है कि कुछ लोग आसमान में सितारों के अनगिनत संसार को देखकर खुश हो जाते हैं तो कुछ आसमान में एक सितारे को देखकर ही उसे अपना मान खुश हो लेते है। जावेद अख्तर के लिखे गीतों के बोल सुंदर है और फिल्म का संगीत उम्दा है और देव डी में अलग तरह के संगीत से चर्चा में आए अमित त्रिवेदी ने खूबसूरत संगीत दिया है। हालांकि फिल्म निर्देशिका ने फिल्म को एक स्टाइलिश लुक देने का भरपूर प्रयास किया है लेकिन अजरुन अभय देओल के चरित्र को बेहद कमजोर कर दिया है।


अमृता पुरी ने शैफाली के किरदार को बहुत उम्दा अंदाज में परदे पर जिया है और उनके लिए यह एक अच्छी शुरुआत कही जा सकती है। इसे आप कूल और स्टाइलियश परिधानों वाली फिल्म कह सकते है जो इस बात की तरफ सकेंत करती है कि धूप का टुकड़ा बेहद हसीन होता है लेकिन यह सबकी किस्मत में नहीं होता कुछ लोग इसे खो देते है तो कुछ अपने हिस्से के इस प्यार को खोज लेते है।

राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।