सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

चिड़िया चोट कर गई रे..ट्विटर पर राजा जानी


हैरान परेशान जनाब डॉट कॉम को देखा तो मैं चौंक पड़ा, यार इतना खुश तो आपको इससे पहले नहीं देखा था।लपक के बोले पड़े यार वो बात ही कुछ खास है लंबे समय से एक रोज के मेहमान से पीछा कुछ देर के लिए छूट गया । मामला नाजुक समझ हमने गुगली उछाल दी भाई दोस्ती के दिन दु:ख भरी बातें क्यों? यार ये ट्विटर तो तुम लोगों के बहुत करीब रहता है न फिर अचानक ये विस्फोटक दूरी क्यों? जनाब डॉट कॉम बोले यार सायबर स्पेस में उसके लोप होने से हंगामा हो गया है, बॉलीवुड में मातम सी स्थिति है बहुत चहक चहक के सब अपने दिल की बात शब्दों में बता रहे थे, यार इतनी विस्फोटक आबादी देखकर उसकी तबीयत थोड़ी नासाझ हो गई, सो थोड़ी देर के लिए प्यारी चिड़िया उड़ गई।


तभी मोहल्ले में शोर उठा अरे ट्विटर टैं बोल गया।बहस कानाफूसी का दौर चालू, मोहल्ले का युवा पत्रकार बोल पड़ा यार ये अभी कल रात को ही तो एक जापानी ने 2० अरबवां ट्विीट किया था, जीजीजीजीजीओ लेट्स गो .सब कुछ तो ठीक चल रहा था अचानक ट्विटर ने इस तरह से क्यो रंग बदल लिया। इतने में बैगग्राउंड म्यूजिक बजा जग सूना -सूना लागे॥ तभी एक आवाज उठी अरे ये 2012में दुनिया खत्म होने जैसा है बंद करो इस लंफगे दर्द भरे गीत को ।माहौल फिर बदला उड़ते परींदे ने पूछा अरे ट्विटर की चिड़िया का कुछ पता चला ? चिड़िया क्यों उड़ गई भाई? इतने में अपने चिंटू सक्सेना का दिमाग चला बोले अरे ये अपनी उस हिस्स वाली देवी मल्लिका का सनसनीखेज फोटो शूट का कमाल है जिसे देखकर ट्विटर कोप भवन में चला गया।



हमने कहा चलो शुक्र है कुछ किशोर कम उम्र में जवान होने से बच गए, इश्क की बीमारी आजकल वैसे भी बहुत तेजी से फैलती है, सायबर संसार में ऑल लाइन प्यार की खुमारी कभी चैटिंग से कभी ट्विटिंग से चलती रहती है और तौबा यहां तो हर कोई अपने हाले दिल को बयां करने को आतुर रहता है. अमां दिल कब फुटबाल बन उछाल मार जाए कुछ कह नहीं सकते सो सब्बा खैर करे दोस्ती के इस खास दिन थोड़ा टि़वटर की तरह से लोप होने का अपना ही मजा है। एक साथ अरबों लोगों के दिल पर चोट कर गया अपना टि़वटर.. बड़ी नाइंसाफी है भाई। और अपना एफएम बोल पड़ा दिल का हाल सुने दिल वाला कहकर रहेगा कहने वाला.सीधी सी बात ना मिर्च मशाला..

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।