सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Kites review: प्रेम की डोर से बंधी काइट्स

Movie Rating -* * *
फिल्म समीक्षा : काइट्स
निर्देशक : अनुराग बसु
निर्माता: राकेश रोशन
कलाकार : रितिक रोशन, बारबरा मोरी, कंगना रणावत
संगीत : राजेश रोशन
गीत : नसीर फराज, आसिफ अली बेग
संपादन : अविक अली
वितरण = बिग सिनेमा

प्रेम को किसी भाषा की जरूरत नहीं होती, काइट्स की थीम यही है। निर्देशक अनुराग बसु ने अपनी बाकी फिल्मों की तरह इसमें भी अपने खास अंदाज को बरकरार रखा है। अपराध की गलियों में खिलती खूबसूरत रोमानी प्रेमकथा। फिल्म में हॉलीवुड फिल्मोंे की तरह की गति है। कई सीन निर्देशक की अद्भुत कल्पनाशीलता की बानगी हैं, विशेषकर जहां अशाब्दिक रोमांस का जादू बिखेरा गया है। कार रेसिंग और स्टंट को बेहतरीन तरीके से फिल्माया गया है।

पटकथा पर अनुराग बसु की मेहतन पूरी तरह से झलकती है। किस्सागोई का उनका अलग अंदाज पूरी फिल्म पर हावी रहता है। घटनाओं को फ्लैशबैक और वर्तमान को जोड़कर कुछ इस तरह से बुना गया है कि हर सीन थोड़ा चौकाता है। अविक अली का संपादन उच्चकोटि का है, बारबरा और रितिक का अभिनय फिल्म की जान है।

फिल्म जे (रितिक रोशन) और नताशा / लिंडा (बारबरा मोरी) की प्रेम की कहानी कहती है। जे (रितिक रोशन) एक डांस टीचर है। वह बहुत जल्दी अमीर होना चाहता है। इसके लिए वह ग्रीनकार्ड चाहने वाली लड़कियों से विवाह कर उन्हें अमेरिका में बसने में मदद करता है। मैक्सिको से आई लिंडा (बारबरा मोरी) भी उसकी मदद लेती है। इसी बीच जे से डांस सीख रही जीना (कंगना)को उससे प्यार हो जाता है। जीना लास वेगास के कैसिनो मालिक (कबीर बेदी) की बेटी है। उसकी दौलत के चक्ककर में जे उससे विवाह करने के लिए तैयार हो जाता है। शादी होने से पहले जे की मुलाकात नताशा उर्फ लिंडा से जीना के घर पर फिर से होती है जो कबीर बेदी के बेटे टोनी(निक ब्राउन) से विवाह करने वाली है।
जे की तरह नताशा भी केवल पैसे के लिए इस शादी को करना चाहती है। लेकिन इसी बीच जे और नताशा को अहसास होता है कि वे दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैें। यहां से कहानी में बदलाव आता है, नताशा विवाह से एक दिन पहले जे के साथ भाग जाती है। टोनी और उसके पिता दोनों से बदला लेने के लिए पीछे पड़ जाते हैं। फिल्म में जबर्दस्त थ्रिल, स्टंट और इमोशनल सीन्स हैं। जे और नताशा की भाषा भिन्न होने के बावजूद दोनों की कैमिस्ट्री जोरदार है। हालांकि फिल्म का अंत दुखांत है।

बेहतरीन अभिनय, खूबसूरत गीत और एक अदद डांस नंबर के बावजूद फिल्म भारतीय दर्शकों को प्रभावित कर पाएगी, कहना मुश्किल है। फिल्म के पहले भाग में अमेरिका की खूबसूरत लोकेशंस दिखाई गई हैं। बैकग्राउंड म्यूजिक और सिनेमेटोग्राफी शानदार है। गीत-संगीत मधुर है। नसीर और आसिफ के लिखे गीतों को राजेश रोशन ने अपने बेहतरीन संगीत से नई ऊंचाई पर पहुंचाया है। कुल मिलाकर प्रस्तुतिकरण के मामले में अनुराग की यह फिल्म इस साल की सभी फिल्मों पर भारी पड़ती दिख रही है। क्यों देखें: रितिक के अभिनय के लिए, नए तरह के स्टोरी टेंिलंग के लिए, कर्णप्रिय संगीत के लिए और बेहतरीन सिनेमेटोग्राफी के लिए।
राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।