सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘हाउसफुल’ : कॉमेडी का फुल डोज

रेटिंग : ***

निर्देशक: साजिद खाननिर्माता : साजिद नाडियाडवालाकलाकार: अक्षय कुमार, रितेश देशमुख, अजरुन रामपाल, दीपिका पादुकोण, लारा दत्ता, जिया खान, बोमन ईरानी, रणधीर कपूरसंगीत : शंकर एहसान लॉयगीत : समीर, अमिताभ भट़्टाचार्यबैनर :साजिद नाडियाडवाला ग्रैंडसन एंटरटेनमेंट


निर्देशक साजिद खान ‘हाउसफुल’ एक रोमांटिक कॉमेडी है। फिल्म में अक्षय को भले ही हर जगह हारते दिखाया गया हो, लेकिन अपने लटके-झटकों की बदौलत फिल्म बॉक्स ऑफिस पर जीत हासिल कर सकती है। कॉमेडी पसंद करने वाले दर्शकों को यह फिल्म निश्चित ही पसंद आएगी। हालांकि फिल्म में नया कुछ नहीं है लेकिन अक्षय कुमार और रितेश देशमुख का उम्दा अभिनय फिल्म की जान है। बोमन ईरानी और अजरुन रामपाल ने अपने हिस्से का काम संजीदगी से किया है। दीपिका, लारा और जिया ने फिल्म में ग्लैमर का तड़का लगाया है।


एक अनलकी इंसान जब दूसरे लोगों से जुड़ता है तो कैसे उनकी किस्मत भी बदकिस्मती में बदल जाती है। पूरी फिल्म इसी थीम पर है। आरुष (अक्षय कुमार) मकाऊ के कैसिनो में काम करता है। उसे लोग पनौती मानते हैं क्योंकि उससे जुड़ने वाले हर इंसान की जिंदगी में कुछ ना कुछ गलत होने लगता है। इसी कारण उसकी पहली गर्लफ्रेंड उसे छोड़कर चली जाती है जिसके बाद वह लंदन अपने दोस्त बॉब (रितेश देशमुख) के यहां आ जाता है। यहां बॉब और हेतल उसका विवाह देविका (जिया खान) करा देते है जो अमीर है। लेकिन हनीमून पर आरुष देविका को उसके बॉयफ्रेंड के साथ देख लेता है और विवाह टूट जाता है। आहत आरुष जब समुद्र में डूबकर मरने जाता है तो यहां उसे सेंडी (दीपिका पादुकोण) बचा लेती है। दोनों में प्यार हो जाता है लेकिन सेंडी का भाई मेजर कृष्णा (अजरुन रामपाल) पहले आरुष को परखना चाहता है और वह भी लंदन मिलने चले आता है। उधर हेतल अपने पिता बटुक पटेल (बोमन ईरानी )को नाना बनने की झूठी खबर दे देती है और वह भी लंदन चले आता है। इसके बाद फिल्म में एक झूठ को छुपाने के लिए कई झूठ बोले जाते हैं और यहां से फिल्म में कई तरह के ट्विस्ट आते हैं, अंत में आरुष की किस्मत सही रास्ते पर आ जाती है।


फिल्म में अक्षय कुमार ने उम्दा अभिनय किया है। रितेश देशमुख ने भी काफी मेहनत की है। बोमन ईरानी हाउसफुल में कॉमेडी के फुल डोज में हैं। लारा और जिया ने बिकनी पहनने में कोई झिझक नहीं दिखाई है। फिल्म अश्लीलता और फूहड़पन से दूर है इसके लिए निर्देशक साजिद खान की तारीफ की जा सकती है। भले ही फिल्म में कॉमेडी के नाम पर नया कुछ नहीं हो लेकिन इस फिल्म में कई ऐसी बातें है जो सिनेमाहॉल में दर्शक का भरपूर मनोरंजन करती हैं।


फिल्म का गीत-संगीत बेहतर है और कोरियोग्राफी भी शानदार है। फिल्म में लावारिस का चर्चित गीत अपनी तो जैसे तैसे को नए रूप में प्रस्तुत किया गया है। अगर आप अक्षय कुमार की फिल्मों को पसंद करते हंै और रोमांटिक कॉमेडी फिल्म देखने का शौक रखते हैं, तो यह फिल्म आपको पसंद आ सकती है। आईपीएल के खुमार के बाद ‘हाउसफुल’ सिनेमा हालों को हाउसफुल कर सकती है।
राजेश यादव

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।