सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘पा’: ऑरो का जादू चल गया



निर्देशक : आर बाल्की
प्रोड्च्यूसर : अमिताभ बच्चन कॉरपोरेशन, सुनील मनचंदा
संगीत: इलैया राजा
गीत : स्वानंद किरकिरे
कलाकार : अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, विद्या बालन
सिनेमैटोग्राफी : पी सी श्रीराम


फिल्म ‘पा’ भावनात्मक संबंधो की कहानी कहती एक बेहतरीन फिल्म है। दरअसल ‘पा’ कुछ सपनें, कुछ यादें और जिंदगी की खूबसूरती की तलाश करती एक बेहतरीन फिल्म है। बेहतरीन निर्देशन, शानदार अभिनय के साथ कमाल के मेकअप ने फिल्म को ऐसा रूप दिया है जो दर्शकों का दिल जीतने वाला है। निर्देशक ने अपनी सोच का जादू बड़े सहज और सधे अंदाज में रचा है और ऑरो के माध्यम से बालमन के उड़ान की खोज की है।


फिल्म ‘पा’ प्रोजेरिया से पीड़ित ऑरो (अमिताभ बच्चन) की जिंदगी पर आधारित है जिसमें जिंदगी की धूप -छांव के बीच मानवीय संबंधांे की खूबसूरत दास्तान है। ऑरो मां (विद्या बालन) के साथ बड़ा होता है , मां डॉक्टर है जो यह जानती है कि उसका ऑरो जिंदगी के कुछ ही बसंत देख सकता है। ऑरो अपनी बीमारी के साथ ही अपनी एक अलग दुनिया में जीने वाला बालक है जो जिंदगी को अपने अंदाज में जीता है। एक छोटा सा बालक उम्मीदों के आसमान पर धूप के टुकड़े को तोड़ने के लिए वह सब कुछ करता है जो वह अपनी छोटी सी जिंदगी में कर सकता है, उसकी चाहत तो पूरी हो जाती है लेकिन जिंदगी की पटकथा..में कुछ धूप के सिक्के अधूरे से भी रह जाते है...। फिल्म के अंत में जिंदगी की एलबम में कुछ यादें और रुदन का फिल्माकंन बेहद भावनात्मक है।


दरअसल विद्या और अमोल मात्रे (अभिषेक बच्चन) के बीच प्यार तो होता है लेकिन यह प्यार सात फेरों तक नहीं जा पाता। विद्या अमोल से अलग होने के बावजूद ऑरो को जन्म देने का फैसला करती है। अमोल एक बड़ा राजनेता बनना चाहता है और उसे विवाह नामक संस्था में विश् वास नहीं होता।
फिल्म की पटकथा एक पिता-पुत्र , एक पति-पत्नी और मानवीय मूल्यों की बात करती है। फिल्म में संवाद कमाल के है और गीत-संगीत बेहद उम्दा है। अमिताभ बच्चन अभिनय की एक पाठशाला है और इस फिल्म में भी उन्होंने अपने बेजोड़ अंदाज में लोगों के दिल पर छा जाने वाला अभिनय किया है। फिल्म में ऑरो का मेकअप सबसे खास है और फिल्म में बिग बी को एक १३ साल के बालक की भूमिका में देखना एक रोचक अनुभव है। फिल्म ‘पा में बिग बी के मंकी डांस का अंदाज बेहद उम्दा है और यह दर्शकों का दिल जीतने वाला है।


अभिषेक और विद्या बालन ने अपनी भूमिकाओं के साथ पूरा न्याय किया है। फिल्म बेहद उम्दा है और दर्शको की उम्मीदों को पूरा करती हुई लगती है।
रेटिंग ***1/२
Rajesh Yadav

टिप्पणियां

kishore ghildiyal ने कहा…
vakai sach me amitabh ka jawaab nahi

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।