सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विश्लेषण: राहुल शरद द्रविड़ क्यों नहीं?


जिंदगी की किताब में आज खास :ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले जाने वाली सात मैचों की वनडे सीरिज में राहुल शरद द्रविड़ को मौका नहीं दिया गया है, लेकिन क्यों? इस बात को वे बेहतर बता सकते है जिन्होंने टीम चुनी लेकिन एक बात सोचने वाली है कि क्या चैंपियंस ट्राफी में राहुल द्रविड़ का प्रदर्शन इतना खराब था? शायद नहीं, लेकिन इसके बावजूद टीम से राहुल टीम से बाहर है क्योंकि क्रिकेट अब बदल गया है भाई ताबड़तौर रन पीटने वाले बल्लेबॉज चाहिए, भविष्य की टीम बनानी है! नए खिलाड़ियों को मौका देना है! और वर्ल्ड कप २०११ भी तो जीतना है!

और इन खूबसूरत बातों के साथ वे भूल जाते है कि हम एक ऐसे खिलाड़ी को बाहर कर रहे है जिसने वनडे क्रिकेट के साथ साथ टेस्ट क्रिकेट क्रिकेट के इतिहास में दस हजार से अधिक रन बनाने वालों में तीसरे ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने यह कारनामा किया है, और जिसकी खेल की स्टाइल किसी भी खिलाड़ी के लिए एक आदर्श हो सकती है। लेकिन नहीं भाई राहुल के आलोचकों के पास इसका भी जबाब है, राहुल विदेशी पिचों पर भारत के लिए बेहद फायदेमंद है लेकिन भारतीय पिचों पर राहुल के बिना भी टीम इंडिया की नैया पार लगाई जा सकती है।

दरअसल यहीं वह सोच थी जिसके कारण सौरव गांगुली को बार बार टीम से अंदर बाहर किया गया था और दर्द जब हद से गुजर गया तो बंगाल के टाइगर सौरव गांगुली ने क्रिकेट की दुनियां से सन्यास ले लिया। जरा याद करें ग्रेग चैपल के उस बात को जिसमें वर्ल्ड कप की भविष्य की टीम बनाने के नाम पर सौरव गांगुली जैसे खिलाड़ि को अंदर बाहर का रास्ता दिखाने में भी संकोच नहीं हुआ था। तब चयनकतार्ओ ने टीम इंडिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर सौरव गांगुली के साथ यह खेल खेला था, आज निशाने पर राहुल द्रविड़ है कल कोई और होगा?

दरअसल जब से बिकनी क्रिकेट टी 2० का दौर शुरु हुआ है बल्ला भाजने में माहिर बल्लेबाजों को बेहतर क्रिकेटर मान लिया गया है, कुछ पुराने खिलाड़ियों ने नई नई क्रिकेट अकादमी खोल ली है और इसमें नए क्रिकेटर तराशे जा रहे है तो यहां से निकलने वाली नई पौध को भी तो मौका मिलना चाहिए ना? इस बात में बुरा कुछ नहीं है लेकिन राहुल या सौरव गांगुली जैसे खिलाड़ी के खेल जीवन से खिलवाड़ करके नहीं।
एक खिलाड़ी जो विदेशी पिचों पर टीम की नैया पार लगाने में सक्षम है, वह देश की पिचों पर भी क्यों नहीं ?

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।