सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रेखा : बॉलीवुड की एक खूबसूरत कविता



10 अक्टूबर 1954 को तमिलनाडू में जन्मी भानूरेखा गणोशन उर्फ रेखा अपने अभिनय व अप्रितम सौन्दर्य के लिए जाना जाने वाला एक खूबसूरत नाम है। एक ऐसा नाम जिसकी आंखों की मस्ती और अभिनय का जादू बड़े परदे पर जमकर चला है। रेखा की जिंदगी के सावन भादों में कई धूप छांव है जिसमें संघर्ष और सफलता की ऐसी दास्तान है जिसमें जिंदगी का असली सच छुपा हुआ है। कुछ खूबसूरत पल, कुछ अंजाने दुख और मुस्कान के कुछ ऐसे मोती भी है। तमिल फिल्मों के सुपर स्टॉर कहे जाने वाले जैमिनी गणोशन और तेलगू स्टॉर पुष्पावल्ली की पुत्री रेखा ने अपने अभिनय के दम पर बॉलीवुड में अपनी एक अलग पहचान बनाई।

बॉलीवुड में अभिनय की पारी शुरु करने से पहले रेखा ने तमिल फिल्म ‘रंगुला ररतनम’ में बाल कलाकार के रुप में काम किया था और कन्नड़ फिल्म ‘गोडाली सीआईडी’ 999 से शुरु किया। बॉलीवुड में ‘सावन-भादों’ फिल्म से रेखा ने अपनी पहचान बनानी शुरु की। रेखा के फिल्मी कॅरियर में असली जादू जगाया ‘दो अंजाने’ और घर फिल्म नें। ये दो ऐसी फिल्में थी जिसके बाद रेखा का फिल्मी करियर जहां चल निकला। रेखा और अमिताभ ने एक साथ कई हिट फिल्में दी और दोनों की रोमांटिक जोड़ी फिल्मी पर्दे पर खूब पंसद की गई। दोनों की रोमांटिक जोड़ी का असर निजी जीवन से भी जोड़कर देखा जाने लगा और इसी के चलते सिलसिला फिल्म के बाद दोनों ने आज तक साथ काम नहीं किया।
1981 में आई ‘उमराव जान’ में रेखा ने अभिनय का एक ऐसा किरदार जिया जिसकी आज भी मिसाल दी जाती है। अभिनय में डूबी रेखा की मस्तानी आंखों का जादू कुछ इस कदर चला कि जिसने भी देखा वह सम्मोहित हो गया। एक ही भूल, बसेरा, कलयुग से रेखा ने यथार्थ सिनेमा जगत में भी अपनी अलग छाप छोड़ी। इसके साथ ही ‘खून भरी मांग’ में उनके अभिनय को फिल्म समीक्षकों और जनता ने खूब पंसद किया। ‘कामसूत्र : ए टेल ऑफ लव’, खिलाड़ियों का खिलाड़ी और परिणीता जैसी फिल्मों में रेखा ने अपने ग्लैमरस अभिनस से लोगों को अपने अभिनय के एक नए पक्ष से अवगत कराया।

रेखा की निजी जिंदगी के भी कई पक्ष है आज भी उनका फेवरेट अल्फाबेट ए है, क्यों ?जानने वाले इसे जानते है। सितारों की जिंदगी से जुड़े परदे के इस पार के कुछ ऐसे सच भी होते है जिसे दर्शक जानना चाहता है। रेखा ने उद्योगपति मुकेश अग्रवाल से विवाह भी किया लेकिन यहां भी रेखा की जिंदगी में एक दु:ख लिखा था , असमय ही उनके उद्योगपति ने आत्महत्या कर अपना जीवन खत्म कर लिया।

रेखा के पिता जैमिनी गणोशन तेलगू फिल्मों में जिस तरह कमाल का काम किया उसी तरह रेखा ने भी बॉलीवुड में अपनी एक अलग पहचान बनाई। जिंदगी की धूप छांव से गुजरते हुए रेखा ने अभिनय का दामन कभी नहीं छोड़ा, वे अपने ग्लैमरस लुक और शानदार अभिनय के बल पर साथ बार बार दर्शकों के दिलों पर एक अमिट छाप छोड़ जाती है। आज रेखा का जन्म दिन पर हम तो यहीं कहेगें तुम जियो हजारों साल - साल के दिन हो पचास हजार।
Rajesh yadav

टिप्पणियां

Udan Tashtari ने कहा…
रेखा को जन्म दिन की मुबारकबाद.
Pramendra Pratap Singh ने कहा…
रेखा एक जीवंत अदाकारा
डॉ टी एस दराल ने कहा…
रेखा को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई. बीते हुए हसीं पल याद दिला दिए जब हम सब उनके दीवाने हुआ करते थे.
आपने शीर्षक भी बेहतरीन दिया है...रेखा, तुम जियो हजारों साल....

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।