सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक किंग ऑफ रोमांस तो दूसरा दिल का राजा


एक कलाकार को सबसे बेहतर कोई समझा सकता है तो वह खुद एक कलाकार ही । महान दार्शनिक नीत्से ने कहा था कि कलाकार, संत और दार्शनिक ही वे लोग है जो श्रेष्ठतम जीवन जीते है। एक ऐसा जीवन जीसमें दूसरों के लिए कुछ देने का जज्बा होता है। सलमान शाहरुख और आमिर खान एक ऐसी ही कड़ी है एक रोमांस का देवता है, एक दिल का राजा तो एक कुछ संत की तरह। भले ही सलमान और शाहरुख में लोग छत्तीस का आकड़ा देखते हो लेकिन सलमान दिल के राजा है तभी तो उन्होंने बेबाक होकर दुनियां को बता दिया कि शाहरुख रोमांस के किंग है, और बड़े पर्दे पर प्यार की भावना को जिस तरह से वह जीते है वह सबसे उम्दा है।


सलमान ने दरअसल सच ही कहा है शाहरुख की आंखों में वह जादू है जो प्यार की शब्द रहित भाषा को व्यक्त करने में सफल रहता है। लड़कियों में शाहरुख का क्रेज और दिवानगी का ही आलम यह है कि देश ही नहीं परदेश में भी शाहरुख का जादू खूब चलता है। यह जगजाहिर बात है कि ओवरसीज मार्केट में जितना प्यार शाहरुख को मिला है उतना बॉलीवुड के किसी बड़े अभिनेता को नहीं मिला। अगर सलमान शाहरुख के काम, उनके अभिनय की गंभीरता को लेकर यह बात कहते है तो इसके पीछे एक सच्ची भावना है। भले ही वह शाहरुख के व्यवहार से आहत हो लेकिन सलमान ने शाहरुख की जिस तरह से तारीफ की है वह एक सच्चे कलाकार की अभिव्यक्ति है।


सलमान और शाहरुख के बीच एक खास कड़ी और है मिस्टर परफेक्शनिस्ट आामिर खान। जब आप इन तिनों कलाकारों की आपसी तुलना करते है तो आमिर खान कुछ अलग अंदाज में संत की तरह नजर आते है। एक ऐसा संत जो कला को तपस्या की तरह जीता है और उसमें किसी तरह का खलल उनकों नहीं भाता है। लेकिन आमिर कुछ रहस्यवादी किस्म के इंसान भी है एक समय जब ऋतिक रोशन हिट हुए तो उनसें पूछा गया कि क्या आपको उनसें कुछ खतरा महसूस होता है ? तो आमिर ने बड़े प्यार से उस व्ग्क्त जवाब दिया था कि ये बात तो आप शाहरुख से क्यों नहीं पूछते बॉलीवुड का सुपरस्टॉर तो वह अपने आपको समझता है? दरअसल चुटकी लेने में और बातों को चालाकी से टाल देने में आमिर बहुत माहिर है जरा याद करें उनके ब्लॉग में छपे विवाद को। लेकिन इन सब बातों के बाजवूज आमिर इन दोनों के बीच एक कड़ी की तरह नजर आते है।


प्यार का रहस्यवाद खान त्रिगुट में कुछ अलग हटकर है और यह उनकीं ताकत और कमजोरीं दोनों है। यही वह बिंदू है जो कभी कभी उनके निजी जीवन को प्रभावित कर देता है। चलते चलते महान दार्शनिक नीत्से की उस बात को याद कर लेते है जिसमें उन्होंने कहा था कि रोमांटिक आदमी स्वपन्नों की दुनियां में जीता है और जिंदगी की वास्तविकता से जब उसका सामना होता है तो वह परेशान हो जाता है। प्यार के इस रहस्यवाद को चाहे आप जो कुछ कहें पर बड़े पर्दे पर रुमानियत का देवता अगर कोई है तो शाहरुख खान और बॉलीवुड लव गुरु की इस बात में दम तो नजर आता ही है।

Rajeshyadav

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।