सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बाबर : अपराध के सच को तलाशने की सार्थक कोशिश


निर्देशक : आशु त्रिखा
प्रोडच्यूसर : मुकेश शाह, सुनील एस सैनी
कलाकार : सोहम, मिथुन चक्रवर्ती, ओम पुरी, सुशांत सिंह, उर्वशी शर्मा, मुकेश तिवारी
संगीत : आंनद राज आंनद
लेखक : इकर अखत्तर
एक्शन : अब्बास अलि मुगल
बैनर : रिद्धि-सिद्धि

देश के सबसे बड़े सूबे के अपराध जगत का कड़वा सच, राजनीति और अपराध के घालमेल को फिल्म बाबर में दिखाया गया है। फिल्म में धोखेबाजी, रंगदारी, और अपराधियों के आपसी टकराव के साथ राजनेताओं के साथ इसके रिस्तों को बखूबी दिखाया है। फिल्म बताती है कि बाबर पैदा नहीं होता, वह समाज के बीच से ही निकलता है और इसके लिए उसके आसपास का माहौल ही दोषी होता है। फिल्म कहती है बाबर था, है और रहेगा..बस समय के साथ उसका चेहरा बदल जाता है।

यह फिल्म एक आईना है जिसमें आज के राजनेताओं का चरित्र, अफसरों की सोच और उत्तरप्रदेश में पनप रहे अपराधियों की दुनियां की झलक साफ-साफ दिखाई देता है। फिल्म अमनगंज के उस इलाके से शुरु होती है जहां एक छोटी सी बात में दो गुटों में आपसी कहा सुनीं में खून खराबा हो जाता है। इसी माहौल में पल बढ़ रहा परिवार का एक छोटा सदस्य बाबर (सोहम सिंह)१२ साल की उम्र में एक खून कर देता है और जवानी की दहलीज पर पहुंचते पहुचतें वह सूबे के अपराध जगत का एक ऐसा नाम बन जाता है जिससे हर कोई खौफ खाता है। लेकिन तरबेज (सुशांत सिंह) एक अन्य अपराधी भी है जो राजनीतिज्ञ भैय्या जी की छत्रछाया में अपराध जगत में सक्रिय है और वह बाबर को पसंद नहीं करता। इन दोनों की आपसी लड़ाई के साथ साथ फिल्म की कहानी आगे बढ़ती है लेकिन बाबर का आतंक इस कदर बढ़ता है कि वह मुख्यमंत्री के भाई हरपाल सिंह पर हमला कर देता है। इसके बाद फिल्म में तेजी से परिवर्तन आता है और पुलिस अपने रंग में आती है और इसके एसपी मृत्युन्जय (मिथुन चक्रवर्ती )बाबर और अमनगंज के अपराधियों पर लगाम लगाते है। लेकिन इस दौरान वह अपने ही एक सहयोगी के द्वारा की गई दोखेबाजी का शिकार होकर बाबर की गोली से मारे जाते है।

फिल्म में बाबर का अंत जिस तरह से दिखाया गया है वह भी अपने आप में कई बातों पर सोचने पर विवश करता है।फिल्म में सोहम सिंह ने बाबर की भूमिका के साथ न्याय करने का प्रयास तो किया है लेकिन अभिनय में और तिखापन होता तो कुछ और बात होती। तरबेज की भूमिका में सुशांत सिंह, और एसपी की भूमिका में मिथुन चक्रवर्ती ने बेहतरीन काम किया है। ओम पुरी ने भी कमाल का अभिनय किया है, उर्वशी सिंह जिया के रोल में ठीक- ठाक रहीं है। लेकिन इन सब बातों के साथ फिल्म में थोड़ा तिखापन और कसावट की कमी भी दिखलाई देती है। फिल्म में सूत्रधार के रुप में जिस बच्चे की आवाज को इस्तेमाल किया गया वह एक उम्दा प्रयास है।


गीत - संगीत कम है लेकिन जीतना भी है उम्दा है खासकर सूफीयाना अंदाज में जिदंगी को तलाश करता गीत विशेष है। फिल्म में यूपी स्टाइल में फिल्माया गया सांग भी उत्तर भारत में दर्शकों को पसंद आएगा। बड़े शहरों में भले फिल्म ना जुटा पाए लेकिन उत्तर भारत के छोटे शहरों में फिल्म पसंद किए जाने योग्य है।

***

Rajesh yadav

टिप्पणियां

संजय तिवारी ने कहा…
आपको हिन्दी में लिखता देख गर्वित हूँ.

भाषा की सेवा एवं उसके प्रसार के लिये आपके योगदान हेतु आपका हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।