सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फिल्म सिंकदर और जम्मू के खूबसूरत फोटो

फिल्म सिंकदर बिग इंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी है और इसके निर्देशक पीयूष झा है। फिल्म की कहानी बेहद उम्दा और संवेदनशाील विषय पर है । फिलहाल आज की पोस्ट में आप छायाचित्र देखें फिल्म से जुड़ी अन्य बातों को मैं आपके सामने अगली पोस्ट में लेकर आउंगा..










खूबसूरत आकाश तले धरती का स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर के सौन्दर्य का आभामंडल किसी को भी अपनी तरफ खींच लेने का जादू रखता है। कश्मीर की खूबसूरत वादियों में फिल्म सिंकदर की शूटिंग हुई है और कहानी यहीं के एक 14 साल के लड़के की जिंदगी पर आधारित है।



क्या आप इस चेहरे को पहचानते है। कभी इस लड़के ने आपको अपनी छोटी सी भूमिका मे मुस्कराने का मौका भी दिया है और एक खास बात और कई सारे विज्ञापन फिल्मों में भी काम किया है।




फिल्म के बारें में हम अगली पोस्ट में चर्चा करेंगे फिलहाल आपको फिल्म से जुड़े कुछ छायाचित्र दिखा रहे है। कल मुंबई के पीवीआी जुहू में इस छायाप्रदर्शनी का शुभारंभ फिल्मकार विधुविनोद चोपड़ा ने किया। फिल्म सिंकदर बिग इंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी है और इसके निर्देशक पीयूष झा है।




टिप्पणियां

अनाम ने कहा…
Hello my friend
How are you my friend?
I wish you a happy day
I will visit your blog
If you have time please visit my site

http://laptop2vpro.blogspot.com/

http://love2vqn.blogspot.com/
मैंने इस फिल्म के प्रोमो देखें हैं यकीनन कश्मीर के बहुत खूबसूरत दृश्य हैं इसमें...
नीरज
चन्दन कुमार ने कहा…
yakinan kashmir khubsoorat hai, jannat ki tarah

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।