सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जिंदगी, जीत और लक.


हार और जीत महज दो शब्द नहीं है इसमें अपने समय का सच छुपा होता है, जिसमें जीत का उल्लास और हार की टीस भी होती है। लेकिन सदियों से यह संसार हमेशा विजेताओं को याद रखते आया है और जीतने वाला ही अंतत: सिकंदर कहलाता है।


कुछ लोग जीतने के लिए केवल इंसान की हिम्मत,लगन और धर्य को सबसे बड़ा गुण मानते हैं तो कुछ इसे किस्मत से भी जोड़कर देखते हैं। कभी - कभी आपका लक अगर आपके साथ न हो तो आप जीती बाजी भी हार जाते है।


बॉलीवुड की बॉक्स ऑफिस पर यूं तो हर शुक्रवार को कई स्टॉर आते है लेकिन हर किसी की किस्मत में सुपरहिट का तमगा नहीं लगा होता। लेकिन मायानगरी में सफलता को सर आंखों पर बिठाने की परंपरा रहीं है और इसे राजेश खन्ना , बॉलीवुड के बिग बी या फिर किंग खान से बेहतर कौन समझ सकता है। लेकिन इन सभी ने शिखर पर बनें रहने के लिए केवल लक पर भरोसा नहीं किया बल्कि समय के साथ अपने कलाकार को निखारते भी रहे।


लक से कमल हसन की पुत्री श्रुति हसन अपनी फिल्मी पारी की शुरुआत कर रहीं है और एक सुपर सितारें की बेटी होने के बाद आपसे उम्मीदें बढ़ जाती है। दरअसल एक स्टॉर पुत्र या पुत्री होने से बॉलीवुड में फिल्म मिल जाना तो आसान हो जाता है और आप इसे अपनी किस्मत मान सकतें है। लेकिन मायानगरी में लंबे समय तक टिके रहने के लिए आपके अंदर एक कलाकार का होना ही काम आता है।


एक जमाना था जब अमिताभ बच्चन शुरुआती असफलताओं से निराश होकर बॉलीवुड को अलविदा कहने का मन बना चुके थे लेकिन जंजीर जिसे कई अभिनेता विभिन्न कारणों से करने से मना कर चुके थे अमिताभ बच्चन के हिस्से आई और उन्होंने ने इस अवसर को पहचाना और अपने अभिनय की पूरी ताकत झोंक दी, और उसके बाद जो हुआ वह एक इतिहास है।


दरअसल यह बॉलीवुड के सुपर स्टार के उदय की बात थी। इसलिए जिंदगी में अवसर सबके पास आते है और जो सही समय पर अवसर को पहचान इसे पकड़ ले जीत उसके कदमों में आ ही जाती है और यहीं किस्मत है और इसी में आदमी कि हिम्मत और जीजिविषा भी छुपी होती है।


सोहम द्वारा बनाई गई लक केवल एक फिल्म भर नहीं है बल्कि लंबे समय से मानव अवचेतन में छिपा हुआ एक ऐसा शब्द है जो इंसान की सोच और उसकी किस्मत को प्रभावित करता रहा है। किस्मत अच्छी या बुरी हो सकती है लेकिन इसे महसूस वहीं करता है जिसकी किस्मत अच्छी या बुरीं हो हम कभी इसे हार तो कभी जीत कहकर पुकारते है।


और सबसे बड़ी बात जीतने वाले भले कुछ हटकर होते है उनका गुड लक हमेशा उनके साथ होता है क्योंकि वो अवसर की पहचान करना जानते है।

टिप्पणियां

लक की भूमिका भूमिका तो होती ही है .. पर जीतनेवाले को ही सिकंदर कहा जाता है .. हारनेवालों को तो नहीं .. एक अच्‍छी फिल्‍म के लिए उससे जुडे सभी लोगों को शुभकामनाएं !!

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।