सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शादी की है कोई गुनाह नहीं? फिर क्यों हैं उनको ऐतराज?


हरियाणा के झज्जर जिले में रहने वाले रविंद्र गहलोत ने खुशी पूर्वक शिल्पा नामक लड़की से विवाह किया। इस विवाह से दोनों परिवार के लोग और नवदंपत्ति बेहद खुश थे। लेकिन यह तस्वीर का एक पहलू है। इस विवाह का दूसरा पहलू ढराणा गांव की पंचायत का एक फैसला है जिसने रविंद्र और शिल्पा को पति -पत्नी न मानकर भाई बहन बता दिया है और उनको यह विवाह तोड़ने के लिए फरमान जारी कर दिया है।


दरअसल ढणना गांव की पंचायत का कहना है कि चूंकि शिल्पा कादियान गोत्र की है और यह गांव के गोत्र से मिलता है इसलिए वह गांव की बेटी हुई और इस लिहाज से यह विवाह अवैध है और दोनों को तलाक लेना होगा। गांव के लोगों के अनुसार कादियान और गहलोत गोत्र का आपस में भाईचारा इसलिए यह विवाह मान्य नहीं हो सकता लेकिन शिल्पा और रविंद्र अपने रिस्ते को लेकर अडिग है और दोनों ने तलाक लेने से साफ इंकार कर दिया है। अब पंचायत का कहना है कि रविंद्र को परिवार सहित गांव छोड़ना ही होगा। उधर इस पूरे मामलें पर प्रशासन पंचायत के लोगों को मनाने का प्रयास कर रहा है।


पंचायती राज का डंका पीटने वालों के लिए ढणना गांव की दकियानूसी सोच से धक्का जरूर लगा होगा। अरे भाई जब रविद्र और शिल्पा के गोत्र आपस में अलग है तो गांव के अन्य लोगों का गौत्र लड़की से मिलना कोई अपराध तो है नहीं। लड़का और लड़की बालिग है, उनके विवाह से दोनों परिवार के लोग सहमत है तो यह विवाह कानूनी रुप से तो मान्य है। लेकिन पंच परमेश्वर ने अपना फैसला सुना दिया है और इस विवाह को अमान्य कर दिया है। पंचायत के फैसलों से आहत होकर रविंद्र ने जहर खाकर जान देने की कोशिश भी की थी। ईश्वर का शुक्र है वह सही सलामत है लेकिन अगर उसे कुछ हो जाता तो इसके लिए दोषी कौन होता?


सवाल उठता है कि इस पूरे मामलें में दोष किसका है? और क्या पंचायत को अपने फैसले पर विचार नहीं करना चाहिए? क्या जीने का अधिकार देने वाली सरकार इसे केवल एक समाजिक समस्या मानकर मूकदर्शक रहकर देखती रह सकती है? आखिर इस पूरे प्रकरण पर किस प्रकार का फैसला होना चाहिए?

RAJESH YADAV

टिप्पणियां

Manisha ने कहा…
आप ये बताइये कि समाज में रहकर समाज के नियमों का पालन करना चाहिये या नहीं। क्या समाज कि किसी बात के नहीं मान कर ही आप आधुनिक बनेंगे। क्या वैज्ञानिक भी नहीं मानते कि रिश्तों मे शादी नहीं करनी चाहिये इससे आने वाले बच्चे कमियों से गृसित होते हैं।
निशाचर ने कहा…
समाज में रहकर समाज के नियम कानूनों का पालन जरूरी है. वैक्तिक स्वंत्रता के नाम पर सामाजिक नियमों की अवहेलना नहीं की जा सकती. यदि आप समूह के सर्वस्वीकार्य नियमों का पालन नहीं कर सकते तो फिर आपको समूह में रहने का भी कोई अधिकार नहीं. ऐसे में पंचायत ने उन्हें गाँव से बाहर जाने का आदेश देकर सही किया है.
वैक्तिक स्वतंत्रता के नाम पर देश और समाज के नियमों की अवहेलना आधुनिकता का शगल बन गया है. कल को मैं कहूं कि मैं तो AK -४७ रखना चाहता हूँ. मैंने अपने पैसे से खरीदी है तो इसमें किसी को क्यों ऐतराज होना चाहिए??
इसी तरह कि अन्य मांगे भी वैक्तिक स्वतंत्रता के नाम पर उठ सकती हैं. समाज और देश नियम -कानूनों से ही बनते हैं. पुरानी रूढियों को छोड़ना सही है परन्तु हर नियम को ताक पर रख देना सही नहीं...

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।