सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

‘हैरी पॉटर’: जादू के साथ प्यार भरी रोमांटिक कॉमेडी


निर्देशक : डेविड येट्स
पटकथा लेखक : स्टीव क्लोव्स
कलाकार : डेनियल रेडक्लिफ, एम्मा वॉटसन, रुपर्ट ग्रिंट, जिम ब्रांडबेंटम्यूजिक स्कोर : निकोलस हूपर
किताब की लेखिका : जे. के. रोलिंगबैनर : वार्नर ब्रदर

हैरी पॉटर का जादू पिछले कुछ सालों से बच्चों के लिए एक सम्मोहन की तरह काम करता रहा है।इस बार भी ‘हैरी पॉटर एंड द हॉफ ब्लड प्रिंस’ में भी इस जादू का नजारा देखने को मिला है लेकिन इस बार जादू के साथ प्यार भरी रोमांटिक कॉमेडी भी इस फिल्म का खास बिंदु है।

समय रुकता नहीं और हैरी और उसके साथी भी समय के साथ बड़े होते जा रहे है। किशोर उम्र का प्यार अब जवां होता जा रहा है जहां दिलों में छुपी चाहत है जिसे निर्देशक डेविड येट्स ने थोड़े हास्य और दिल की संवेदनशीलता के साथ परोसने की कोशिश की है।

एक तरफ हैरी के दिल में गिनी के लिए प्यार है वहीं दूसरी तरफ रोन का लेवेंडर ब्राउन के प्रति दिवानगी भरा प्यार हरमॉयनी के दिल में जलन को जन्म देता है। दरअसल इस पूरे घटनाक्रम में किशोर वय की मोहब्बत को बड़े प्यार और नाजुकता के साथ फिल्मानें का प्रयास किया गया है।

जे. के. रोलिंग की लिखी ‘हैरी पाटॅर’ सीरीज पर आधारित इस छठी फिल्म ‘हैरी पॉटर एंड द हॉफ ब्लड प्रिंस’ में हैरी इस बार बुरी शक्तियों के अगुवा वाल्डेमोर से टक्कर लेता हुआ दर्शकों को रोमांचित करता है। हालांकि इस बार प्यार के रंग का नशा निर्देशक डेविड येट्स और पटकथा लेखक स्टीव क्लोव्स ने फिल्म में डालने का प्रयास किया है जिसके कारण यह फिल्म पहले की हैरी पॉटर फिल्मों की तरह उतने स्पेशल इफेक्ट और रहस्यमयी दुनिया का नजारा कुछ कम ही प्रतिबिंबित होता है।

हॉगवट़र्स स्कूल ऑफ मैजिक के हैडमॉस्टर एल्बस डम्बलडोर हैरी को अंतिम मुकाबले के लिए तैयार करते है। बुरी शक्तियों के खिलाफ हैरी का अंदाज जादू भरी जीत वाला ही रहा है लेकिन एल्बस डम्बलडोर की इस फिल्म में मौत से हैरी सहित सभी दुखी होते है।

डेनियल रेडक्लिफ हैरी के रोल में एक बार फिर बेहतरीन अभिनय किया है वहीं एम्मा वॉटसन ने हरमॉयनी के रोल में अपने बेहतरीन अभिनय से लोगों का दिल जीतने में कामयाब रहीं है। निकोलस हूपर ने फिल्म में बेहतरीन म्यूजिक स्कोर दिया है। अभी तक आई हैरी पॉटर सीरीज की ६ फिल्मों से इसकी तुलना करें तो यह थोड़ा हटकर है और इसका जादू बाली उमर के किशोरवय पीढ़ी पर जमकर चल सकता है।

देखने योग्य ***

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।