सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फिल्म समीक्षा : ट्रांसफॉरमर्स : रिवैंज ऑफ द फॉलन


निर्देशक : माइकल बे
श्रेणी : एक्शन, साइंस फिक्शन
कलाकार : शिया ला ब्यूफ मेगन फॉक्स, होल लॉटा

अच्छाई और बुराई का संघर्ष हमेशा रहा है, और जब एक अनदेखे संसार के प्राणियों और और धरती को बचाने वालों के बीच हो तो इस रोमांच की कल्पना की जा सकती है। मानव मन हमेशा धरती से परे दुनिया की खोज में रहा है और एक नये संसार की कल्पना साइंस गल्प में हमेशा रही है।




ऐसी ही संसार और धरती के प्राणियों के बीच अच्छे और बुरे के संघर्ष को पटकथा आधार बनाकर तकनीकी के अद्भुत कौशल से ट्रांसफॉरमर्स : रिवैंज ऑफ द फॉलन को बनाया गया है।

यह फिल्म वैसे तो ट्रांसफार्मर श्रेणी की भाग दो है जो बेहद उम्दा है। अगर आपको तकनीकी, रोबोट्स की दुनिया और कारों की दुनियां का एनीमेशन रोमांच देखना हो तो ट्रांसफार्मर भाग दो को सिनेमा की बड़ी स्क्रीन पर देखना बेहतर विकल्प है।

ट्रांसफार्मर भाग दो में दूसरी दुनिया की बुरी ताकतें धरती पर मानवीय जीवन के लिए खतरा बन जाती है । धरती पर अंधकार को फैलाने के लिए बुरी ताकतें हरसंभव प्रयास करती है लेकिन फिल्म का नायक सैम (शिया ला ब्यूफ), अंतरिक्ष की दुनिया का एक पुराना ऑप्टिमस प्राइम इन बुरी ताकतों के बीच में आ जाता है और अंतत: सच की जीत होती है।

रोबोट्स और ऑटोबोट्स की इस फिल्मी संसार में मानवीय पात्रों के लिए कुछ ज्यादा नहीं था लेकिन सैम और उसकी महिला मित्र मिकेला (मेगन फॉक्स) ने बेहतरीन काम किया है। नायक सवेदनशील, चतुर है और एलियंस की दुनिया और उनकी सोच को समझने वाला है।

फिल्म की शुरुआत बेहद रोमांचक और तेज है । स्पेशल इफेक्ट देखने लायक है। इसी तरह ऑप्टिमस प्राइम को जीवन देने के लिए सैम का पास जाना और बुरी ताकतों द्वारा रोकने के लिए किए जाने वाले संघर्ष का फिल्मांकन प्रभाव छोड़ता है।

तेज साउंड, कारों की दौड़ और कंप्यूटर के द्वारा विकसित पात्रों के बीच की जंग जहां रोमांचित करती है वहीं पटकथा के स्तर पर थोड़ा बेहतर किया जा सकता था। रोबोट्स की लड़ाई में रंगांे का इस्तेमाल थोड़ा बेहतर होता तो फिल्म देखने का अनुभव दर्शक के लिए थोड़ा और मनोरंजक हो सकता था।

फिल्म 2007 में हिट ट्रासंफार्मर भाग वन के स्तर से भाग दो से भले ही थोड़ा पीछे हो लेकिन तकनीकी कौशल में उससे मीलों आगे है।


देखने योग्य ***

RAJESH

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।