सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सिंह इज किंग का सरकार राज जनता के मन भाया




और जनता के मैजिक फिंगर का जादू चल गया है और इस जादू का सबसे शानदार फायदा मनमोहन सिंह को होता नजर आ रहा है। देश में आर्थिक मंदी का माहौल, आतकवाद के मौचें पर सरकार की हो रहीं आलोचना के बावजूद देश ने यूपीए शासनकाल की नीतियों का पसंद किया है।


दरअसल यूपीए की इस जीत को परमाणु करार , आम आदमी के हित में लिए गए कर्ज माफी के फैसलों ने अपना रंग दिखाया है । इसके साथ ही जनता ने यूपीए में एक स्थायित्व को पसंद किया है और मतदाताओं ने वोट देते समय इन बिंदुओं पर बड़े गौर से घ्यान दिया है।


लोकसभा चुनाव 2009 में भाजपा के पीएम इन वेटिंग आडवाणी जी ने जो कालेधन का मुद्दा उटाया था वह कोई खास रंग नहीं दिखा पाया है और अगर आडवाणी जी का प्रधानमंत्री बनने का सपना अधूरा रह जाता है तो इसके पीछे एक स्पष्ठ विजन को देश के सामने न रख पाना भी माना जा सकता है।


यह चुनाव यह भी बताता है कि तीखे भाषण और धार्मिक भावनाओं को भड़का के चुनाव नहीं जीते जा सकते। ऐसा लगता है कि जनता अब धर्म, जाति से ऊपर उटकर स्वच्छ छवि, और बेहतर विजन को घ्यान में रखकर अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है।


जिस तरह से कांग्रेस ने मनमोहन को आगे रखकर चुनाव लड़ा और जीत का परचम लहराया है उसमें मनमोहन सिंह और ताकतवर और बेदाग होगे निकलकर सामने आए है। जनता ने उनकें पांचसाल के कामकाज को सलाम किया है और सिंह इज किंग को सरकार राज चलाने का आदेश दिया है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।