सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मतदाताओं ने कांग्रेस की जय हो पर मुहर लगाई

लोकसभा चुनावों के ताजा रुझानों से जो लगभग स्पष्ठ हो चुका है कि देश का मतदाता एक बार फिर यूपीए को सत्ताकी जाबी देने जा रहा है। और इसकर गूंज दस जनपथ पर सुनाई देनो शुरु हो गई है।
क्या कहते है ताजा परिणाम:

कांग्रेस सबसे बड़े दल के रुप में उभरती हुई नजर आ रहीं है और उसका यूपीए गठबंधन सत्ता की तरफ दमदार तरीके से कदम बढ़ा चुका है। यूपीए अभी तक १८४ सीटों पर रुझानों में बढ़त बना ली है।

* कांगेस की इस सफलता में उसके युवा नेता राहुल गांधी की अथक मेहनत रंग लाती हुई नजर आ रहीं है और उत्तरप्रेदश , पंजाब , केरल हरियाण राजस्थान में बेहतरीन जीत की तरफ बढ़ती नजर आ रहीं है। मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस अपना प्रदर्शन सुधारती हुई नजर आ रहीं है।

* एनडीए और सहयोगी अभी तक 127 सीटों पर ही बढ़त बना सकें है और सत्ता तक पहुंचना मुश्किल नजर आ रहा है।

* तीसरा मोर्चा अभी तक 65 सीटें जीत चुका है लेकिन वामदलों को बंगाल और केरल में नुकसान उठाना पड़ रहा है।

चौथा मोर्चा : सपा , राष्ट्रीय जनता दल को जबरदस्त नुकसान उटाना पड़ रहा है। चौथा मोर्चा अभी तक मात्र 27 सीटों पर ही अपनी बढ़त बना सका है।

* उत्तर प्रदेश से जिस तरह के परिणाम आ रहे है उससे माया का सपना दरक् ता हुआ नजर आ रहा है और सपा भी उम्मीद से बहुत पीछे चल रहीं है।

उत्तर प्रदेश 80 : कांग्रेस ( 9) भाजपा (12 ) सपा ( ३) बसपा (१ )

उत्तराखंड : कांग्रेस ( ) भाजपा ( ) सपा ( ) बसपा ( )

मध्यप्रदेश २९: कांग्रेस (४ ) भाजपा (७ ) बसपा (१ )

पंजाब : कांग्रेस ( ) भाजपा ( ) सपा ( ) बसपा ( )

गुजरात : कांग्रेस ( ) भाजपा ( ) सपा ( ) बसपा ( )


जम्मू :

कोलकोत्ता : कांग्रेस ( ) भाजपा ( ) वामदल ( ) बसपा ( )

बिहार 40: कांग्रेस ( ) भाजपा ( १) चौथा मोर्चा ( ) जनता दल सेक्यूलर ( )

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बीहड़ में बागी होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर

बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में : पानसिंह तोमर


पहले वह एक दयालु किसान था लेकिन कुछ बातों ने उसे औरों से अलग बनाती थी। जैसे.

1949 : उसने सेना को ज्वॉइन किया

1958 में उसने 3000 मीटर में स्टेपलचेस का नया नेशनल रिकार्ड बनाया।

1958 से1964 तक लगातार सात साल वह नेशनल चैंपियन बना।

लेकिन एक दिन वह सिस्टम से ऐसा नाराज हुआ की  बागी  बन गया। चंबल के इस भागी पान सिंह तोमर की कहानी को बॉक्स ऑफिस पर तिग्मांशु धूलिया लेकर आ रहे हैं। फिल्म का एक चर्चित संवाद आजकल चर्चा में हैं.

सवाल : आप डाकू क्यों बनें?

पानसिहं तोमर का जवाब:  बीहड़ में बागी  होते हैं , डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट में

फिल्म में पान सिंह तोमर की भूमिका में बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता इरफान खान नजर आएगें। फिल्म का पहला टीजर 7  फरवरी को रिलीज हुआ है।

भारतीय मूल के वैज्ञानिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन को नोबल

जिंदगी की किताब की विशेष न्यूज। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक वेंकटरमन रामाकृष्णनन, थॉमस स्टेट्जि और इजरायल की यदा योनेथ को संयुक्त रुप से रसानयन के श्रेत्र में की गई खोज राइबोसोम की संरचना के अध्ययन और खोज के लिए २००९ का नोबल प्राइज देने का ऐलान किया है।
द रॉयल स्वीडिस एकेडमी ऑफ साइंस ने कहा है कि राइबोसोम डीएनए कोड को जीवन के रुप में स्थानांनतरण करते है।
वेंकटरमण रामाकृष्णनन (भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक)
जन्म : १९५२ में भारती राज्य तमिलनाडू के चिदंबरम शिक्षा : ओहियो विश्वविद्यालय से 1९७६ में पीएचडी क्या है यह खास खोज : इन तिनो वैज्ञानिकों ने आणविक स्तर पर जैव कोशिका में राइबोसोम की संरचना और कार्यप्रणाली का पता लगाया है। यह कोशिका की सबसे जटिल प्रक्रियाओं में से एक है, इसी खोज के लिए निर्णायक मंडल ने इन वैज्ञानिकों ने तीनों वैज्ञानिकों को रसायन शास्त्र का यह नोबल प्राइज दिया है।राइबोसोम प्रोटीन पैदा करता है जो बदले में जीवति अंगो के रासायनिक तंत्र को नियंत्रित करने में अपनी भूमिका निभाता है।